एसडीएम की जांच के बगैर ही आरईओ ने डीसी को सौंपी जांच रिपोर्ट
गिरिडीह झारखंड

एसडीएम की जांच के बगैर ही आरईओ ने डीसी को सौंपी जांच रिपोर्ट

  • 14
    Shares

एसडीएम ने किया तेवर तल्ख, रिपोर्ट लेने से किया इंकार

रिपोर्ट : मनोज कुमार पिंटू

गिरिडीह। शहर के सड़क निर्माण कार्य में हुई अनियमितता की जांच की रिपोर्ट आरईओ के कार्यपालक अभियंता मनोहर कुमार ने डीसी कार्यालय की गोपनीय शाखा को सौंप दिया है।

हालांकि सौंपी गई जांच रिपोर्ट में मेयर सुनील पासवान के लगाए गए आरोप को गलत बताया गया है। जबकि जो रिपोर्ट आरईओ के कार्यपालक अभियंता द्वारा डीसी को दिया है, उसमें स्पष्ट कहा गया है कि पथ प्रमंडल ने 19 करोड़ की लागत से अब तक जितना सड़क निर्माण का कार्य किया है, उसमे कोई गड़बड़ी नहीं है। सिर्फ निर्माण के दौरान संबधित ठेकेदार सिन्हा कंस्ट्रक्शन द्वारा यातायात नियम का पालन नहीं किया गया है।  जिसके कारण निर्माण में कुछ लापरवाही बरती गई है।

इसे भी पढ़ें-83 चिकित्सकों की कमी का दंश झेल रहा है स्वास्थ्य महकमा, चिकित्सा सेवा प्रभावित

सदर एसडीओ के नेतृत्व में होनी थी जांच

सड़क निर्माण में गड़बड़ी की शिकायत उठने के बाद जांच टीम गठित की गई थी। सदर एसडीएम राजेश प्रजापति के नेतृत्व में निर्माण कार्य की जांच की जानी थी। लेकिन हैरानी की बात यह है कि आरईओ के कार्यपालक अभियंता ने पथ प्रमंडल पदाधिकारियों के साथ जांच कर सड़क निर्माण का सैंपल सिंदरी बीआईटी को भेज दिया। कार्यपालक अभियंता के अनुसार लैब जांच के लिए बीते दिसंबर माह में सैंपल भेजा गया था। वहीं बीते 22 फरवरी को जांच रिपोर्ट आरईओ के कार्यपालक अभियंता को मिलने के बाद अभियंता मनोहर कुमार ने शुक्रवार को डीसी को रिपोर्ट भेज दिया।

एसडीओ ने कार्यपालक अभियंता को लगाई फटकार

मामले से संबंधित जांच रिपोर्ट जब आरईओ के कार्यपालक अभियंता कुमार एसडीओ राजेश प्रजापति को दिया, तो एसडीओ ने रिपोर्ट यह कहकर लेने से इंकार कर दिया कि बगैर बताएं जब जांच पूरी कर लैब टेस्टिंग में भेज दिया गया है, तो फिर वह रिपोर्ट लेकर क्या करेंगे। इस दौरान उन्होंने कार्यपालक अभियंता को फटकार लगाते हुए कहा कि जब जांच टीम में उन्हें भी शामिल किया गया था, तो उन्हें बगैर शामिल किए क्यों जांच की खानापूर्ति की गई है।

मेयर ने प्राक्कलन समिति के पास उठाया था मामला

गौरतलब है कि विधायक शाहाबादी की अनुशंसा पर सूबे की सरकार द्वारा स्वीकृत किए गए 19 करोड़ की लागत से शहर के पांच सड़कों का निर्माण कार्य शुरू किया गया था। इस दौरान निर्माण कार्य शहर के काली बाड़ी चौक से शुरु हुआ, जो मकतपुर चौक से बरगंडा और पांडेयडीह तक बनाया गया। इसी बीच सड़क निर्माण में गड़बड़ी की शिकायत करते हुए मेयर सुनील पासवान ने पहले पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता को पत्र लिखा। लेकिन कार्यपालक अभियंता द्वारा नजर अंदाज किये जाने के बाद उन्होंने मामले को विस के प्राक्कलन समिति के समक्ष उठाया था। इसके बाद समिति ने सड़क निर्माण की गुणवर्ता की जांच पूर्व डीसी डाॅ नेहा अरोड़ा को सदर एसडीएम के नेतृत्व में कराने का निर्देश दिया था।

सड़क निर्माण में कोई गड़बड़ी नहीं: अभियंता

इधर आरईओ के कार्यपालक अभियंता मनोहर कुमार ने बताया कि सड़क निर्माण में कोई गड़बड़ी नहीं हुई है। पांच माह पहले जब शहर के मकतपुर और काली बाड़ी चौक से निर्माण कार्य शुरु हुआ था, तो वह बिल्कुल बेहतर तरीके से पथ प्रमंडल की मौजदूगी में ठेकेदार द्वारा किया गया है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….