टफकॉन स्टील और विश्वनाथ नर्सिंग होम में आयकर का सर्वे
गिरिडीह झारखंड टॉप-न्यूज़

टफकॉन स्टील और विश्वनाथ नर्सिंग होम में आयकर का सर्वे

  • 30
    Shares

40 से अधिक अधिकारियों की टीम ने एक साथ की कार्रवाई

गिरिडीह। गिरिडीह की टफकॉन छड़ कंपनी के लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री और शहर के चिरैयाघाट स्थित विश्वनाथ नर्सिंग होम में बुधवार को देवघर, धनबाद और गिरिडीह आयकर विभाग के 40 अधिकारियों और कर्मियों की संयुक्त टीम ने सर्वे किया। आयकर विभाग के सर्वे की कार्रवाई देवघर परिक्षेत्र-3 के संयुक्त आयकर आयुक्त पीके विश्वास कर रहे थे। जबकि सर्वे में देवघर की सहायक आयकर आयुक्त श्रंवती भट्टाचार्य के साथ गिरिडीह के आयकर पदाधिकारी रंजन कुमार गर्ग के अलावे धनबाद और देवघर के आयकर पदाधिकारी केदारनाथ, सुमन कुमार व डीके महतो, आयकर निरीक्षक सुरज, मिथिलेश और सुधीर कुमार भी शामिल थे। सर्वे की कार्रवाई में गिरिडीह के पुलिस जवानों को भी शामिल किया गया था।

सुबह से खंगाले जा रहे थे दस्तावेज

लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री के साथ शहर में मंगलम मॉल में स्थित कंपनी के कार्यालय में भी आयकर सर्वे किया गया। लंगटा बाबा स्टील और विश्वनाथ नर्सिंग होम में आयकर अधिकारियों की टीम ने एक साथ सुबह करीब 10 बजे दबिश दी। इसके बाद सर्वे की कार्रवाई तीनों स्थानों पर एकसाथ चली। विश्वनाथ नर्सिंग होम के साथ लंगटा बाबा स्टील में आयकर विभाग के अधिकारी दस्तावेजों को खंगालने में जुटे हुए थे।

टैक्स चोरी की संभावना

आयकर सूत्रों की मानें तो सर्वे की प्रारंभिक कार्रवाई में लंगटा बाबा स्टील और नर्सिंग होम द्वारा बड़े पैमाने पर टैक्स चोरी का मामला उजागर होने की संभावना है। वैसे सर्वे में लगे अधिकारियों ने फिलहाल बताया कि अभी कुछ कहना संभव नहीं होगा। वैसे जितने दस्तावेज हाथ लगे हैं और खंगाले जा रहे हैं, उसके अनुसार दोनों में लाखों रुपये के टैक्स चोरी का अनुमान है। ऐसे में देर शाम को ही टैक्स चोरी का वास्तविक आंकड़ा बताया जा सकता है।

आयुष्मान योजना के तहत संभावित गड़बड़ी की जांच

सर्वे के दौरान आयकर अधिकारियों की टीम ने लंगटा बाबा स्टील के फैक्ट्री और मंगलम मॉल कार्यालय में जहां स्टॉक की खरीद-ब्रिकी के दस्तावेजों को खंगालने में जुटी हुई है, वहीं विश्वनाथ नर्सिंग होम में भी विभागीय अधिकारी दस्तावेजों के माध्यम से पता लगाने में जुटे हैं कि नर्सिंग होम में नित्यदिन कितने मरीजों की जांच और ऑपरेशन किया जाता है। साथ ही आयुष्मान भारत योजना से मिले फंड से अब तक कितने मरीजों का इलाज किया गया है। समाचार लिखे जाने तक सर्वे की कार्रवाई जारी थी।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….