जादोपटिया और सोहराई कला से सजने लगी हैं गिरिडीह की दीवारें

जादोपटिया और सोहराई कला से सजने लगी हैं गिरिडीह की दीवारें
  •  
  • 57
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    57
    Shares

चित्रकार फिरोज ने शहर की दीवारों को बनाया पेंटिंग कैनवास

रितेश सराक

गिरिडीह। गिरिडीह शहर की दीवारों को सुंदर चित्रकारी से सजाया जा रहा है। शहर के मुख्य मार्गों से लगी दीवारों पर झारखंड की लोक चित्रकारी कला को उकेरा जा रहा है। झारखंड की प्रसिद्ध आदिवासी कला जादोपटिया, सोहराई और कोहबर को गिरिडीह के स्थानीय चित्रकार खूबसूरती से उकेर रहे हैं।

जिला प्रशासन ने शुरू की पहल

गौरतलब है कि झारखंड हजारीबाग समेत कई जिलों के मुख्य भवनों और पहुंच मार्गों से लगी दीवारों को राज्य की लोक चित्रकारी से सजाने की पहल की गई है। इसी के तहत गिरिडीह जिला प्रशासन ने भी शहर की दीवारों पर चित्रकारी करने का काम चालू कराया है। जानकारी के अनुसार गिरिडीह में प्रशिक्षु आइएएस प्रेरणा दीक्षित ने इस काम में व्यक्तिगत रूचि लेते हुए इसे आगे बढ़ाया है।

Read More- आखिरकार कोबाड़ से आगे पटरी पर दौड़ेगी ट्रेन, वर्षों की साध होगी पूरी

शहर के मुख्य भवनों और मार्गों की दीवारों पर होगी चित्रकारी

जादोपटिया और सोहराई कला से सजने लगी हैं गिरिडीह की दीवारें

पहले चरण में टावर चौक के समीप पंचमंदिर से अंबेडकर चौक तक लगी दीवार को राज्य की आदिवासी लोक चित्रों से रंग दिया गया है। चित्रकारी के बाद इसकी खूबसूरती देखते ही बनती है। इसके बाद रजिस्ट्री ऑफिस और व्यवहार न्यायालय की दीवारों से होते हुए डीसी ऑफिस और झंडा मैदान की दीवारों को भी इन सुंदर लोक चित्रों को सजाया जाएगा। साथ ही विभिन्न सरकारी भवनों की दीवारों और अन्य मार्गों की दीवारों पर भी चित्रकारी की जाएगी।

चित्रकार फिरोज ने लोगों से की अपील

जादोपटिया और सोहराई कला से सजने लगी हैं गिरिडीह की दीवारें

शहर की दीवारों को अपनी खूबसूरत चित्रकारी से सजा रहे कलाकार फिरोज इस काम से काफी खुश हैं। सीधी नज़र न्यूज से बात करते हुए उन्होंने कहा कि यह अपने शहर को सजाने का अवसर मिलना ही बड़ी बात है। मेरे लिए यह काम पैसे से अधिक दिल से जुड़ा हुआ है। इससे मुझे बड़े स्तर पर अपने हुनूर को दिखाने का मौका मिलेगा। फिरोज ने लोगों से दीवारों को गंदा नहीं करने की अपील की। कहा कि अब यह मात्र दीवारें नहीं बल्कि शहर और राज्य की सांस्कृतिक पहचान भी है। इन चित्रों से हम अपने इलाके की कला को बखूबी समझ सकते हैं।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….