गिरिडीह में सजेगी महागठबंधन की पिच, सीट बंटवारे पर लगेगी अंतिम मुहर!

  •  
  •  
  •  
  •  
  • 53
  •  
  •  
    53
    Shares

हेमंत, बाबूलाल, डा अजय और आरपीएन सिंह गिरिडीह में

हेमंत व बाबूलाल के कार्यक्रम को देखते हुए गिरिडीह पहुंचे कांग्रेस के झारखंड प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष

रिपोर्ट: रिंकेश कुमार

गिरिडीह। लोकसभा चुनाव को लेकर भले ही अब तरीखों की घोषणा नहीं हुई है, लेकिन चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है। खासकर इस बार भाजपा सरकार को हर मोर्चे पर शिकस्त देने के लिये विपक्षी पार्टियां एकजुट हो रही हैं। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस झारखंड में महागठबंधन की पिच तैयार करने के लिए क्षेत्रीय पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा और झारखंड विकास मोर्चा के अलावे राजद के साथ महागठबंधन बना चुकी है। हालांकि इन दलों के साथ सीट बंटवारें को लेकर अब भी खींचतान चल रही है। ऐसे गिरिडीह में मंगलवार की रात महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर जारी खीचतान के नजरिये से काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

हेमंत और बाबूलाल के साथ कांग्रेस नेता करेंगे गुफ्तगूं

झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष सह पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपनी संघर्ष यात्रा के तहत आज की रात गिरिडीह में गुजारने वाले हैं। वहीं सूबे के प्रथम मुख्यमंत्री सह झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी भी पार्टी के कार्यक्रम को लेकर गिरिडीह में ही है। ऐसे में महागठबंधन में सीट बंटवारे पर अंतिम मुहर लगाने के लिए कांग्रेस के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ अजय सीधे गिरिडीह पहुंच गए। ताकि चारों नेता बैठकर चुनावी बिसात में महागठबंधन की बिखरी गोटियां सेट कर पाएं।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और राज्य प्रभारी दोनों ही शहर के ऑर्बिट होटल में ठहरे हुए हैं। सूत्रों की मानें इन दोनों की झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन और झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी के साथ गुफ्तगू होगी और उसके बाद झारखंड में लोकसभा की14 सीटों के बंटवारे पर अंतिम मुहर लगेगी।

कुछ सीटों पर दावेदारी को लेकर चल रही है खींचतान

विदित हो कि महागठबंधन होने के बाद 14 में से सात सीट कांग्रेस, चार सीट पर झामुमो, दो सीट पर झाविमो व एक सीट पर राजद के चुनाव लड़ने की सहमति बनी थी। लेकिन इस बीच झाविमो द्वारा दो के बजाय तीन सीट की मांग किए जाने के साथ ही जमशेदपुर, गोड्डा, धनबाद, हजारीबाग, खुंटी व रांची सीट से चुनाव लड़ने को लेकर कांग्रेस, झामुमो व झाविमो में खींचतान चल रही थी। इसमें गोड्डा और जमशेदपुर काफी महत्त्वपूर्ण है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….