बिहार में दो लाख करोड़ का बजट पेश, शिक्षा मद पर राशि बढ़ी

बिहार में दो लाख करोड़ का बजट पेश, शिक्षा मद पर राशि बढ़ी
  • 6
    Shares

पटना। बिहार का बजट सत्र सोमवार से शुरू हो गया है। बजट सत्र के दूसरे दिन बिहार के उपमुख्यमंत्री सह बिहार के वित्तमंत्री सुशील मोदी ने मंगलवार को सदन में दो लाख करोड़ का बजट पेश किया है। जिसमें उन्होंने शिक्षा पर सबसे अधिक ध्यान देते हुए सबसे अधिक राशि खर्च करने का प्लान तैयार किया है। वित्तमंत्री द्वारा प्रस्तुत किया गया बजट वर्ष 2004-5 के बजट से करीब नौ गुना अधिक है। बजट में कुल पूंजीगत व्यय 45 हजार 270 करोड़ रुपए है। वेतन पेंशन व ब्याज भुगतान पर 88 हजार 188 करोड़ रुपये व्यय किए जाएंगे। वहीं सूखाग्रस्त क्षेत्र के किसानों के लिए 1420 करोड़ का अनुदान और 18 लाख 66 हजार किसानों को डीजल अनुदान दिया जाएगा।

बुधवार को वाद विवाद के बीच सरकार देगी जवाब

बजट सत्र के पहले दिन सोमवार को सदन में आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट पेश की गई थी। वहीं मंगलवार को बजट पेश किया गया। जबकि बुधवार को राज्यपाल के अभिभाषण पर वाद-विवाद और सरकार का उत्तर होगा। गुरुवार को 2018-19 की तृतीय अनुपूरक व्यय विवरणी पर चर्चा, वोटिंग और विनियोग विधेयक पेश किया जाएगा। शुक्रवार को लेखानुदान प्रस्ताव पर बहस होगी फिर मतदान और विनियोग विधेयक पेश होगा। 18 फरवरी को राजकीय विधेयक पेश होंगे। जबकि 20 फरवरी को गैर सरकारी संकल्प होगा।

सवर्णों के लिये 10 प्रतिशत आरक्षण विधेयक पास कराने की होगी कोशिश

इस बजट सत्र में राज्य सरकार द्वारा कोशिश की जायेगी कि गरीब सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण का विधेयक भी पास करा लिया जाए। हालांकि विपक्ष ने इस विधेयक का विरोध करने की पूरी तैयारी कर रखी है। बजट सत्र के हंगामेदार होने के पूरे आसार भी दिख रहे हैं।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….