राज्य के हित के लिए जनविरोधी रघुवर सरकार को उखाड़ फेंकना है: हेमंत

राज्य के हित के लिए जनविरोधी रघुवर सरकार को उखाड़ फेंकना है: हेमंत
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 16
  •  
  •  
    16
    Shares

झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा, निरंकुश और तानाशाह है झारखंड की भाजपा सरकार

जमुआ में हेमंत का भव्य स्वागत

जमुआ(गिरिडीह)। झामुमो के द्वारा आहूत संघर्ष-यात्रा के चौथे चरण के क्रम में मंगलवार को झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष सह प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का जमुआ में भव्य स्वागत हुआ। झारखण्डधाम में भगवान शिव की पूजा अर्चना के पश्चात शाम को काफिले के साथ जमुआ पहुंचे हेमंत व अन्य झामुमो नेताओं को लोगों ने फूल-मालाओं से लाद दिया। जमुआ चौक पर अपने संबोधन में हेमंत सोरेन ने कहा कि इस जन विरोधी, निरंकुश रघुवर सरकार को उखाड़ फेंकने का वक्त आ गया है। इस सरकार और इसके आका को झारखंड की जनता से कोई लेना देना नहीं है। यह छतीसगढ़ से लोटा सोटा लेकर आया है और यहां के युवाओं, किसानों, कामगारों, छात्र-नौजवानों पर तानाशाही रवैया अपना रहा है।

राज्य के हित के लिए जनविरोधी रघुवर सरकार को उखाड़ फेंकना है: हेमंत

पूंजीपतियों की गोद में खेल रही है रघुवर सरकार

झारखंड के हमारे पूर्वजों ने जिस झारखंड के लिए अपनी कुर्बानियां दी हैं। आज ठीक उसके विपरीत रवैया अख्तियार कर रघुवर सरकार पूंजीपतियों की गोद में खेल रही है। कहा कि यह सरकार अपने आका अडानी और अंबानी के हाथों बिकी हुई है। हम समय रहते नहीं चेते तो हमारी आने वाली पीढ़ियों को हाथों में कटोरा लेकर भीख मांगने की नौबत आ पड़ेगी। यह सरकार पूंजीपतियों और भ्रष्टाचारियों की है। इसके चार वर्षों के शासन-काल में सूबे में भ्रष्टाचार, आदिवासी, मूलवासी, दलितों, महिलाओं पर शोषण और अत्याचार बढ़ा है। पानी, शिक्षा, रोजगार और सम्मान के लिए लोग तरस गए हैं।

स्थानीय युवाओं को नहीं मिल रहा है कोई रोजगार

पूर्व सीएम ने सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि यहां के युवाओं को मजदूरी के लिए छोटी प्राइवेट नौकरी के लिए दूसरे प्रदेशों में पलायन करना पड़ रहा है और सरकार की नीतियां ऐसी है कि दूसरे प्रदेशों के लोग यहां सरकारी नौकरियां पा रहे हैं। सरकार का इस प्रदेश के युवाओं के लिए न कोई नीति है और न हीं कोई चिंता, यह सरकार चंद चांदी के सिक्कों के लिए झारखंड की सरकारी नौकरियों के लिए बाहरियों का दरवाजा खोल रखा है।

इसे भी पढ़ें-रघुवर राज में मॉब लिंचिंग के मामले बढ़े, कई मुसलमानों की जानें गई – हेमन्त सोरेन

झामुमो सरकार ही ला सकती है राज्य में बदलाव: सोनी चौरसिया

सभा को संबोधित करते हुए झामुमो नेत्री सोनी चौरसिया ने कहा कि यह संघर्ष-यात्रा रघुवर सरकार की ताबूत की आखिरी कील साबित होगी। सूबे के जन-जन में इस सरकार को लेकर जबरदस्त आक्रोश है। लोग सिर्फ चुनाव की बाट जोह रहे हैं । कहा आज सूबे में भूख से मौत, किसानों की आत्महत्या, बढ़ती महंगाई, सरकार द्वारा लागू मजदूर विरोधी कानून, बड़ी कंपनियों को लाभ दिलाने के लिए सरकार द्वारा गरीब, आदिवासियों की जमीन की की जा रही लूट, आदिवासी-मूलवासी पर हो रहे शोषण, अल्पसंख्यकों की सुरक्षा का सवाल, झारखण्ड की बेटियों पर हो रहे अत्याचार, बलात्कार, सरकार की दोरंगी झारखण्ड विरोधी स्थानीय नीति इत्यादि ज्वलंत मुद्दों को जनता के सामने लाने के लिए झारखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री, युवा तुर्क हेमंत सोरेन के नेतृत्व में झारखण्ड मुक्ति मोर्चा का यह संघर्ष-यात्रा पूरे सूबे से भाजपा को उखाड़ फेंकने के लिए निकली है।

कहा कि भाजपा सरकार की मनमानी और गरीब विरोधी नीतियों के खिलाफ झारखण्ड के सभी युवा, छात्र-नौजवानों, किसानों, मूलवासियों, दुकानदारों, कामगारों, मजदूरों, माता और बहनों को सड़क पर उतरने की आवश्यकता है।

सोनी चौरसिया ने झामुमो की सरकार बनने पर जमुआ की जनता की दशकों पुरानी मांग नवडीहा, हीरोडीह को प्रखंड और जमुआ को अनुमंडल बनाने की भी मांग पूर्व मुख्यमंत्री के समक्ष रखी।

इन्होंने भी किया संबोधित

सभा को झामुमो के केंद्रीय नेता सुदिव्य कुमार सोनू, पूर्व विधायक निजामुद्दीन अंसारी, छोटेलाल यादव, प्रदीप हाजरा, गीता हाजरा, दिनेश मंडल, योगेश पांडेय, रंजीत कुमार, राजकुमार राय, लट्टू पांडेय इत्यादि ने भी संबोधित किया।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….