विवेक साहब के मार्ग पर चलकर हर मानव बन सकता है परोपकारी- मां ज्ञान

विवेक साहब के मार्ग पर चलकर हर मानव बन सकता है परोपकारी- मां ज्ञान
  •  
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares

श्री कबीर ज्ञान मंदिर में आयोजित सद्गुरु विवेक साहब का निर्वाण दिवस संपन्न

गिरिडीह। शहर के सिरसिया स्थित कबीर ज्ञान मंदिर में आयोजित दो दिवसीय सद्गुरु विवेक साहब का निर्वाण सह गुरु गोविन्द धाम का स्थापना दिवस शुक्रवार को धार्मिक अनुष्ठान व सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ संपन्न हो गया। इस दौरान सद्गुरु मां ज्ञान द्वारा रचित श्रीमद्भागवत गीता के भाषा टीका के खंड-5 का विमोचन भी किया गया। समारोह के दूसरे दिन शुक्रवार को सद्गुरु विवेक साहब के समाधि पूजन से धार्मिक अनुष्ठान की शुरूआत की गई। मां ज्ञान ने स्वयं गुरु गोविन्द धाम व समाधि स्थल की भव्य रूप से पूजा अर्चना की। समाधि दर्शन और मंदिर पूजन का दौर जहां एक ओर दोपहर तक जारी रहा। वहीं विभिन्न राज्यों से आये मां ज्ञान के अनुयायी कतारबद्ध तरीके से समाधि स्थल पर माथा टेककर पूजा अर्चना की।

विवेक साहब पर आधारित नाटक देख भावविभोर हुये भक्त

विवेक साहब के मार्ग पर चलकर हर मानव बन सकता है परोपकारी- मां ज्ञान

दोपहर बाद मंदिर के प्रांगण में भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें संतो ने सद्गुरु विवेक साहब पर आधारित कई भजन पेश कर पूरे माहौल को भक्तिमय कर दिया। वहीं आश्रम के स्वयंसेवकों ने योगी गोरखनाथ की भक्ति पर आधारित नाटक को पेश कर उपस्थित श्रद्धालुओं को भावविभोर कर दिया। इस बीच बच्चों व युवतियों द्वारा सरकार प्रभु की महिमा गान नामक भाव नृत्य की प्रस्तुती की गई।

मानव जीवन उत्सव, नृत्य और सद्गुणों का संगम

इस मौके पर मां सद्गुरु ज्ञान ने उपस्थित श्रद्धालुओं को उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि सच्चे संतो में भक्तों की सच्ची आस्था की ललक रहती है। मां ज्ञान ने सदगुरु विवेक साहब को असमान्य संत बताते हुये कहा कि विवेक साहब सिर्फ कबीरपंथ ही नहीं बल्कि संत समाज के लिए प्रेरणादायी रहे हैं। इस दौरान उन्होंने भक्तों को विवेक साहब के मार्ग पर चलकर हर मानव एक परोपकारी मानव बनने का आह्वाहन किया। मां ज्ञान ने मानव जीवन को उत्सव, नृत्य और सद्गुणों का संगम बताया।

श्रीमद्भागवत कथा के भाग पांच का हुआ विमोचन

महोत्सव के दौरान श्री कबीर ज्ञान मंदिर ट्रस्ट की और से कई जरुरतमंदो के बीच वस्त्र वितरण किया गया। वहीं मां ज्ञान द्वारा रचित पुस्तक श्रीमद्भागवत कथा के खंड-5 का विमोचन एसपी सुरेन्द्र झा और मां ज्ञान ने संयुक्त रूप से किया। कार्यक्रम के दौरान निगम के उपमहापौर प्रकाश सेठ, सुबोध प्रकाश, डॉ. तारकनाथ देव, अरूण माथुर, सहित शहर के कई गणमान्य लोग उपस्थित थे। वहीं कार्यक्रम को सफल बनाने में सिद्धांत कंधवे, विनय कपिसवे, अरुण माथुर, योग भारती, गीता भारती ने महत्पूर्ण भूमिका निभाया।

विवेक साहब के मार्ग पर चलकर हर मानव बन सकता है परोपकारी- मां ज्ञान

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….