सीबीआई मामले में केंद्र से भिड़ीं ममता, संसद से सुप्रीम कोर्ट तक मामले की गूंज

  • 24
    Shares

शारदा चिटफंड घोटाला मामले में सीबीआई को है कोलकाता पुलिस आयुक्त की तलाश

बंगाल। अरसे बाद पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता भारतीय राजनीति का केंद्र बनता दिख रहा है। लोकसभा चुनाव से पहले राजनीतिक घटनाक्रम में तेजी से बदलाव हो रहे हैं। सीबीआई द्वारा चिटफंड घोटाला मामले में कोलकाता पुलिस कमिश्नर के घर जाँच की जिद के बाद बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रविवार की रात से कोलकाता में एस्प्लेनेड के पास मेट्रो चैनल इलाके में धरने पर बैठ गयी हैं।

ममता बनर्जी के धरने पर बैठने के बाद से इस मामले की गूंज देश भर में सुनाई दे रही है। सोमवार को संसद में पक्ष विपक्ष के नेताओं ने एक दूसरे पर जमकर आरोप लगाये। मामले में कोलकाता पुलिस आयुक्त से पूछताछ की सीबीआई की कोशिश के खिलाफ रविवार से धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को विपक्ष के नेताओं का भरपूर समर्थन मिल रहा है।

अपने अधिकारी को बचाना उनका काम – ममता

सीबीआई मामले में केंद्र से भिड़ीं ममता, संसद से सुप्रीम कोर्ट तक मामले की गूंज

वहीं मामले को लेकर ममता ने कहा कि सीबीआई बिना वारंट के पूछताछ करने के लिए पहुंची थी, जो कि कानून के खिलाफ है। कहा कि अपने अधिकारी को बचाना उनका काम है। ममता ने आगे कहा कि ये मोदी सरकार के खिलाफ उनका सत्याग्रह है। पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के इशारों पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल सीबीआई को यह सब करने के लिए आदेश दे रहे हैं।

क्या है पूरा मामला

पश्चिम बंगाल का चर्चित शारदा चिटफंड घोटाला 2013 में सामने आया था। तीन हजार करोड़ के इस घोटाले का खुलासा अप्रैल 2013 में हुआ था। शारदा ग्रुप पर गलत तरीके से निवेशकों के पैसे जुटाने और उन्हें वापस नहीं करने का आरोप है। इस घोटाले को लेकर पश्चिम बंगाल के कई बड़े नेताओं, अफसरों और सरकार पर सवाल खड़े हो रहे थे।

मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को सबूत लाने को कहा था, जिस पर कार्रवाई के लिए सीबीआई रविवार को कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के पार्क स्ट्रीट स्थित घर पहुंची थी। कमिश्नर आवास पर सीबीआई के पहुंचने पुलिस ने वारंट दिखाने को कहा। सीबीआई द्वारा वारंट नहीं दिखाए जाने के बाद पुलिस ने सीबीआई अधिकारियों को  कमिश्नर के आवास के अंदर जाने से रोक दिया। जिसके बाद सीबीआई अधिकारियों और पुलिस के बीच हाथापाई हो गई थी। कोलकाता पुलिस और  सीबीआई के बीच हुए टकराव के बाद से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रविवार रात से ही धरने पर बैठी हैं।

विभिन्न नेताओं ने ममता के पक्ष और विपक्ष में दिए हैं बयान

राहुल गाँधी ने कहा कि मामले को लेकर पूरा विपक्ष एकजुट है, और यह फासीवादी ताकतों को हराएगा। पश्चिम बंगाल का घटनाक्रम भारत की संस्थाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं भाजपा के निरंतर हमलों का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कंधे से कंधा मिलाकर ममता के साथ है।

राष्ट्रीय लोक दल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने ट्वीट कर कहा कि हर कीमत पर सत्ता फिर से हासिल करने को आमादा मोदी सरकार में संस्थाओं पर से भरोसा पूरी तरह उठ गया है।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सीबीआई और कोलकाता पुलिस के बीच गतिरोध दुर्भाग्यपूर्ण है। यह देश के संघीय राजनीतिक ढांचे पर खतरा है। केंद्र सरकार को देश के किसी भी हिस्से में स्थिति को सामान्य बनाये रखने के लिए कार्रवाई का अधिकार है