रालोसपा रैली पर हुई लाठीचार्ज के विरोध में बिहार बंद रहा असरदार

रालोसपा रैली पर हुई लाठीचार्ज के विरोध में बिहार बंद रहा असरदार
  • 8
    Shares

विपक्षी दलों ने भी दिया समर्थन, सड़क पर उतरकर कराया बंद

पटना। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) सुप्रीमो व पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा पर राजभवन मार्च के दौरान पटना में हुई पुलिस लाठीचार्ज के खिलाफ सोमवार को आहूत विपक्ष का बिहार बंद असरदार रहा। रालोसपा के बिहार बंद को महागठबंधन में शामिल सभी दलों का समर्थन प्राप्त हुआ। सोमवार को सुबह से ही बंद समर्थक सड़कों पर निकल गये और दिन चढ़ने के साथ ही बंद का असर गहराने लगा। बंद के दौरान कई स्थानों पर बंद समर्थकों व पुलिस के बीच हिंसक झड़प भी हो गई। बंद समर्थकों ने पार्टी सुप्रीमो कुशवाहा पर लाठीचार्ज को लेकर पुलिस पर गुंडई का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग कर रहे थे। वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मामले में पुलिस को उकसाये जाने की बात कही।

पटना सहित विभिन्न जिलों में सड़कों पर उतरे बंद समर्थक

रालोसपा रैली पर हुई लाठीचार्ज के विरोध में बिहार बंद रहा असरदार

बिहार बंद को लेकर विभिन्न दलों के कार्यकर्ता व बंद समर्थक सोमवार की सुबह से ही सड़कों पर निकल गये थे। खासकर राजधानी पटना में बंद समर्थक रालोसपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नागमणि व प्रदेश राजद अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे के नेतृत्व में सड़कों पर उतरकर न सिर्फ प्रदर्शन किया बल्कि सभी प्रतिष्ठानों को पूरी तरह से बंद कर दिया। राज्य के पटना, आरा, नालंदा, सुपौल, कटिहार व बक्सर सहित पूरे बिहार में बंद समर्थक सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किया और हड़ताल को सफल बनाया। पटना के हड़ताली मोड़, डाक बंगला चौक व बक्सर में ज्योति प्रकाश चौक पर रालोसपा कार्यकताओं ने जाम कर आगजनी की।

इधर मधुबनी के जयनगर अनुमंडल मुख्यालय सहित जिले में जगह-जगह बंद समर्थकों ने नारेबाजी की। आरा में बंद समर्थकों ने जगदीशपुर के नयका टोला मोड़ के पास आरा-मोहनिया एनएच को जाम कर दिया। पूर्णिया में बंद को लेकर हिंदूस्तानी अवाम मोर्चा के कार्यकर्ताव व समर्थक भी सड़कों पर उतरे और बंद को सफल बनाया।  लखीसराय में भी महागठबंधन के नेता और कार्यकर्ता सड़कों पर उतरकर शहीद द्वार के पास मुख्य सड़क को जाम कर दिया। मधेपुरा में बंद समर्थकों ने कॉलेज चैक पर जाम किया। किशनगंज में राजद ने बस स्टैंड के समीप एनएच 31 को जाम कर प्रदर्शन कर दिया।

कई जगह बंद समर्थकों व पुलिस के बीच हुई झड़प

बिहार बंद के दौरान सड़क पर उतरे विपक्षी दल के कार्यकर्ताओं व पुलिस के बीच कई स्थानों पर झड़प भी हुई। कटिहार में बंद के दौरान पुलिस व बंद समर्थकों में भिड़ंत हो गई। स्थिति पर नियंत्रण करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। कटिहार में पूर्व राज्यमंत्री और पुलिस के बीच नोकझोंक भी हुई। बंद समर्थकों ने भागलपुर जंक्शन पर आनंदविहार जा रही विक्रमशिला एक्सप्रेस को रोक दिया।

जिसकघ वजह से अप और डाउन मार्ग में करीब एक घंटे तक रेल परिचालन ठप रहा। भागलपुर में भी रालोसपा और कार्यकर्ताओं ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की मुख्य शाखा को बंद करा दिया। इस दौरान बाजार बंद कराते हुए कई वाहनों के शीशे तोड़ दिए। गया में महागठबंधन के बंद का पूरा असर दिखा। यहां तक कि सभी स्कूल और कॉलेज बंद रहे। बंद समर्थकों ने वाहनों को जबरन रोककर उनके ऊपर डंडे भी बरसाये।

पार्टी सुप्रीमोे की हत्या करने की रची थी साजिश: नागमणि

विदित हो कि शनिवार को पटना में रालोसपा के आक्रोश मार्च के दौरान पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया था। जिसमें पार्टी सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा सहित पार्टी के कई नेता घायल हो गए थे। पुलिस के इस लाठीचार्ज के विरोध में पार्टी ने सोमवार को बिहार बंद का आह्वान करते हुए सड़क पर उतर गए। रालोसपा के बिहार बंद को राष्ट्रीय जनता दल (राजद), कांग्रेस, हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (हम), विकासशील इंसान पार्टी (वीआइपी) सहित वाम दलों ने भी समर्थन दिया।

बंद के दौरान पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नागमणि ने कहा कि सरकार ने शनिवार को प्रदर्शन के दौरान पार्टी सुप्रीमो उपेंद्र पासवान की हत्या की साजिश रची थी। उस दिन पुलिस गुंडों की तरह पेश आ रही थी। इधर सोमवार को ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पुलिस को कार्रवाई के लिए उकसाया गया था।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….