बिहारशरीफ में शुरू होगा राज्य का पहला चाइल्ड फ्रेंडली थाना, 3 फरवरी को उद्घाटन

बिहारशरीफ में शुरू होगा राज्य का पहला चाइल्ड फ्रेंडली थाना, 3 फरवरी को उद्घाटन
  • 12
    Shares

पीड़ित बाल किशोरों को मिलेगी सभी तरह की सुविधाएं

बिहार। राज्य का पहला चाइल्ड फ्रेंडली थाना की शुरूआत बिहारशरीफ में की गई। हालांकि थाने के मुख्य भवन का निर्माण अब तक नहीं किया गया है। लेकिन तब तक क्षेत्र के टाउन थाना में एक कमरे को ही चाइल्ड फ्रेंडली थाने का स्वरूप दिया गया है। विधिवत् रूप से रविवार को इसकी शरुआत की जायेगी। ज्ञात हो कि विगत 10 जनवरी को किशोर न्याय परिषद द्वारा आयोजित कार्यशाला में परिषद के प्रधान न्यायिक दंडाधिकारी मानवेन्द्र मिश्र ने चाइल्ड फ्रेंडली थाने की शुरुआत करने का निर्देश दिया था। उनके निर्देश के अनुरूप जिले में थाने की शुरुआत की जा रही है। साथ ही भविष्य में जिले के हिलसा व राजगीर अनुमंडल में भी चाइल्ड फ्रेंडली थाने की शुरूआत की जायेगी।

राज्य का पहला मॉडल चाइल्ड थाना

गौरतलब है कि बिहार राज्य के किसी भी जिले में अब तक चाइल्ड फ्रेंडली थाना नहीं खोला गया है। यह थाना राज्य का पहला ऐसा थाना होगा जहां विधि विभाग किशोर या पीड़ित बच्चों के लिए इस तरह की व्यवस्था की गई है, कि वह वयस्क अपराधियों से अलग रहें और खुद को संरक्षित व सुरक्षित महसूस कर सकें।

प्ले स्कूल के रूप में बनाया गया है चाइल्ड फ्रेंडली थाना

बिहार शरिफ में शुरू हो रहे चाइल्ड फ्रेंडली थाने को प्ले स्कूल का रूप दिया गया है। दीवार पर आकर्षक तस्वीरें बनाई गई हैं। जिसकी वजह से बाल या किशोर विधि विरुद्ध आरोपी या पीड़ित यहां प्ले स्कूल जैसा महसूस करेंगे। दीवारों पर प्रेरणादायक पेंटिंग के अलावा टॉफी, बिस्कुट और खेल सामग्री भी बच्चों को दिए जाएंगे। यहां पर बच्चों को भोजन के साथ ही पठन पाठन की सुविधा भी मुहैया करायी जायेगी।

बच्चों के अभिभावकों को दी जायेगी वकील की सुविधा

चाइल्ड फ्रेंडली थाने में आने वाले बच्चें के पक्ष में बहस करने के लिये विधि विरुद्ध या पीड़ित बच्चे के अभिभावकों को वकील की भी सुविधा दी जायेगी। अभिभावक स्वयं वकील रखने में सक्षम होंगे तो ठीक, नहीं तो उन्हें वकीलों के पैनल की एक सूची दी जाएगी जिससे वह अपनी इच्छा के अनुसार वकील का चयन कर सकेंगे।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….