सरिया गुरुद्वारा में धूमधाम से मनाया गया प्रकाशपर्व, शब्द-र्कीतन आदि का हुआ आयोजन

सरिया गुरुद्वारा में धुमधाम से मनाया गया प्रकाशपर्व, शब्द-र्कीतन आदि का हुआ आयोजन
  •  
  • 8
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    8
    Shares

चिड़ियों से मैं बाज लडाऊ, गीदड़ों को मैं शेर बनाऊ

सवा लाख से एक लड़ाऊ तभी गोविंद सिंह नाम कहां

सरिया(गिरिडीह)। जिले के सरिया स्थित श्री गुरुद्वारा साहिब सरिया द्वारा दशमपिता श्री गुरु गोविंद सिंह जी का 351वां प्रकाश पर्व बहुत ही धूमधाम से मनाया गया। सरिया गुरुद्वारा साहिब के ज्ञानी रवि सिंह जी ने कीर्तन कर संगत को निहाल किया। इस दौरान श्रीगुरु ग्रंथ साहिब के पाठ भी प्रारंभ किए गए। मौके पर गुरु के दीवान भी सजाए गए। श्री गुरु गोविंद सिंह का प्रकाश पर्व प्रत्येक वर्ष बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस मौके पर सरिया गुरुद्वारा कमिटि के प्रधान मनोहर सिंह बग्गा ने श्री गुरु गोविंद सिंह के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि गुरुपिता ने अपने चारों साहिबजादों को धर्म की रक्षा के लिए बलिदान कर दिए थे। लेकिन धर्म को नहीं हारने दिया।

पौष महीने की शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को हुआ था जन्म

ज्ञानी रवि सिंह ने कहा की गुरुपिता का जन्म 5 जनवरी 1666 को पौष महीने की शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को पटना बिहार में हुआ था। जो वर्तमान में पटना साहिब के नाम से प्रसिद्ध है। पटना में जिस घर में उनका जन्म हुआ था और जिसमें उन्होंने अपने प्रथम चार वर्ष बिताये थे, वहीं पर अब तखत श्री पटना साहिब स्थित है। गुरु जी ने धर्म एवं समाज की रक्षा के लिए 1699 ई. में खालसा पंथ की स्थापना की। उन्होंने सभी जातियों के भेद-भाव को समाप्त करके समानता स्थापित की और उनमें आत्म-सम्मान की भावना भी पैदा की।

खालसा पंथ के सबसे वीर योद्धा थे गुरु गोविन्द सिंह

श्री गुरु गोविंद सिंह जी खालसा पंथ के सबसे वीर योद्धा थे। उन्होंने धर्म, संस्कृति और देश की आन-बान और शान के लिए पूरा परिवार कुर्बान करके नांदेड़ में अब चल नगर (श्री हुजूर साहिब) में गुरुग्रंथ साहिब को गुरु का दर्जा देते हुए और इसका श्रेय भी प्रभु को देते हुए कहा कि आज्ञा भई अकाल की तभी चलाइयो पंथ, सब सिक्खन को हुक्म है गुरू मान्यो ग्रंथ। कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी ने 42 वर्ष तक जुल्म के खिलाफ डटकर मुकाबला करते हुए सन् 1708 को नांदेड में ही सचखंड गमन कर दिया।

लंगर में जुटे भक्त

रविवार को प्रकाश पर्व के मौके पर सरिया गुरुदारा में दोपहर को अटूट लंगर का आयोजन हुआ। जिसमें श्रद्धालुओं ने पूरे उत्साह के साथ हिस्सा लिया और लंगर का प्रसाद ग्रहण किया। कार्यक्रम का संचालन गुरुद्वारा के प्रधान श्री बग्गा ने किया। इस दौरान मौके पर श्री गुरुद्वारा कमिटी के सचिव सिमरन सिंह, कोषाध्यक्ष राजेन्द्र मखिजा, गुरुप्रित सिंह बग्गा, राजु बग्गा, विशाल गंभीर, गौरव बावेजा, सैंकी सोनी, विक्की आजमानी, टिंकु सोनी, सन्नी सलुजा, बॉबी आजमानी, किशोर सलुजा, सलुजा, जगदीश लाल सोनी, पंकज पवेजा, रिंकु गंभीर, सोनु गंभीर, बाबु सिंह और महिलाओं में परमजीत कौर, सुखविंदर कौर, सिमरन कौर, रश्मी गंभीर, कोमल सलुजा, सुनिता गंभीर सहित काफी संख्या में श्रद्धालु शामिल थे।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….