2018 की उपलब्धियों को मुफ्फसिल पुलिस ने गिनाया, करीब चार सौ केस का किया निष्पादन

2018 की उपलब्धियों को मुफ्फसिल पुलिस ने गिनाया, करीब चार सौ केस का किया निष्पादन
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 5
  •  
  •  
    5
    Shares

नाकाम कार्यकाल के बाद एसपी ने हटाया पूर्व प्रभारी संजीव मिश्रा को

गिरिडीह। मुफ्फसिल थाना पुलिस ने गुजरे साल 2018 को उपलब्धियों से भरा बताया। बुधवार को थाना प्रभारी रत्नमोहन ठाकुर और थाना के एसआई श्रवण सिंह ने प्रेसवार्ता कर जहां कई उपलब्धियां गिनाई। वहीं सूत्रों की मानें तो गुजरा साल मुफ्फसिल पुलिस के लिए कुछ हद तक नाकामियों भरा भी माना गया। इसे लेकर खुद एसपी सुरेन्द्र झा भी समय-समय पर नाराजगी जाहिर करते रहे हैं। वैसे पूर्व थाना प्रभारी संजीव मिश्रा के नाकामी भरे कार्यकाल के कारण ही एसपी झा ने पूर्व प्रभारी को दो माह पहले लाईन हाजिर कर दिया था। इसके बाद जब एसपी झा ने थाना की कमान रत्नमोहन ठाकुर को सौंपी। साथ ही एसडीपीओ जीतवाहन उरांव को मुफ्फसिल थाना के हर संवेदनशील और अतिसंवेदनशील मामलों की माॅनिटरिंग करने का निर्देश दिया। लिहाजा, दो माह के भीतर ही मुफ्फसिल पुलिस ने कुछ मामलों में कई उपलब्धियां हासिल करने में सफलता पाई हैं।

पूरे वर्ष में दर्ज हुए 391 केस

बुधवार को हुए प्रेसवार्ता के दौरान थाना प्रभारी ठाकुर ने बताया कि पूरे साल 391 केस दर्ज किये गये। जिसमें साल 2018 के साथ पुराने दर्ज केस मिलाकर 464 कांडो का निष्पादन किया गया। हत्या के तीन केस दर्ज किए गए। जिसमें केस नंबर 285/18 बनियाडीह के अलकत्तरा टैंक में हुए हत्या का चार्जशीट भी कोर्ट में जमा कर दिया गया। जबकि लूट और डकैती के 5 केस दर्ज किए गए। इनमें सभी मामलों में लूटे और डकैती के सामान बरामद करने के साथ ही अपराधियों की गिरफ्तारी भी की गई। वहीं आईटी एक्ट दर्ज दोनों केस का निष्पादन करने के साथ ही अपराधियों की भी गिरफ्तारी कर ली गई।

संप्रदायिक दंगों के आरोपी को भी किया गिरफ्तार

थाना प्रभारी ठाकुर ने यह भी बताया कि बाईक चोरी के 5 केस दर्ज किए गए। जिसमें चोरी के पांचो बाइक बरामद होने के साथ ही दो बाइक चोर को भी पुलिस दबोचने में सफल रही। वहीं थाना क्षेत्र में हुए सांप्रदायिक दंगो में शामिल 29 नामजद आरोपियों की भी गिरफ्तारी की गई हैं।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….