ब्लैक लिस्टेड एजेंसी सिन्हा कंस्ट्रक्शन को फिर सौंपा सड़क निर्माण का कार्य
गिरिडीह झारखंड

ब्लैक लिस्टेड एजेंसी सिन्हा कंस्ट्रक्शन को फिर सौंपा सड़क निर्माण का कार्य

समय पर सड़क निर्माण कार्य पूरा नहीं करने पर विभाग ने किया था ब्लैक लिस्टेड

सत्ता में आते ही मामले को गंभीरता से लेते हुए झामुमो विधायक ने की पहल

अधूरे सड़क निर्माण के कारण जनता हो रही थी धूल से परेशान

गिरिडीह। पुल और सड़क निर्माण में हो रही देरी के दौरान पथ प्रमंडल ने जिस सिन्हा कंस्ट्रशन एजेंसी को ब्लैक लिस्टेड किया था, दुबारा उसी एजेंसी को पथ प्रमंडल ने शहर के अधूरे पड़े चार किलोमीटर सड़क का निर्माण करने के साथ उसरी नदी पर सिहोडीह-सिरसिया पुल निर्माण का काम सौंपा गया है। हालांकि पथ प्रमंडल ने अब शहर के अधूरे पड़े चार किलोमीटर के सड़क निर्माण का अंतिम डेडलाईन मार्च महीनें तक दिया है, क्योंकि सड़क का कार्य पूरा नहीं होने का खामियाजा शहर के लोगों को रोज धूल खाकर भूगतना पड़ रहा है।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

विधायक ने अधिकारियों के साथ बैठक कर की पहल

ब्लैक लिस्टेड एजेंसी सिन्हा कंस्ट्रक्शन को फिर सौंपा सड़क निर्माण का कार्य

बताया जाता है कि इस मामले को सत्तारुढ़ दल झामुमो के गिरिडीह कमेटी ने गंभीरता से लिया और पथ प्रमंडल के तमाम पदाधिकारियों पर शहर के अधूरे सड़क निर्माण कराने के लिए दबाव डाला। इस बीच संवेदक द्वारा छः माह में शहर के कालीबाड़ी से मकतपुर, अरगाघाट होते हुए शीतलपुर तक करीब चार किलोमीटर किये गये पीक्यूआरसी सड़क निर्माण के कुछ दिनों के बाद ही सड़को की स्थिति खराब होने लगी। जिसे देख स्थानीय झामुमो विधायक सुदिव्य कुमार सोनू ने विभागीय पदाधिकारियों के साथ बैठक कर योजना को अलकत्तरा वाले सड़क निर्माण की स्वीकृति दिलाई। जिसके बाद विभागीय पदाधिकारियों ने हरकत में आते हुए एजेंसी के ठेकेदार अनिरुद्ध सिन्हा को फटकार लगाते हुए मार्च महीनें तक काम पूरा करने का निर्देश दिया।

वर्ष 2018 में पूर्व विधायक ने सड़क निर्माण की कराई थी अनुशंसा

गौरतलब है कि वर्ष 2018 में पूर्व विधायक निर्भय शाहाबादी ने राज्य के पूर्ववर्ती सरकार से शहर के जर्जर सड़कों के निर्माण की स्वीकृति दिलाया था। करीब 19 करोड़ की लागत से बनने वाले सड़क का शिलान्यास भी विधायक शाहाबादी ने पूरे तामझाम के साथ किया था। दो साल पहले इसी सड़क निर्माण की स्वीकृति पीक्यूआरसी यानि सीमेंटेड सड़क के रुप में कराने का मिला था। लेकिन पीक्यूआरसी का यह प्लाॅन सड़क निर्माण के दौरान फेल हो गया। वहीं दुसरी तरफ पूर्व विधायक शाहाबादी भी सड़क निर्माण को लेकर गंभीर नहीं रहे।

पीक्यूआरसी ढलाई के बदले अलकतरा सड़क का होगा निर्माण

पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता जयकांत राम ने बताया कि स्वीकृति मिलने के बाद पथ प्रमंडल ने दुबारा अधूरे पड़े चार किमी के सड़क निर्माण शुरू किया गया है। बताया कि 13 करोड़ की राशि से अलकतरा सड़क का निर्माण होगा। जबकि पूर्व विधायक शाहाबादी ने पूर्ववर्ती सरकार से पहले 19 करोड़ के लागत से पीक्यूआरसी ढलाई के रुप में शहर के जर्जर सड़को के निर्माण का स्वीकृति कराया था। लेकिन एजेंसी की लापरवाही को देखते हुए पथ प्रमंडल ने वर्ष 2019 के सितबंर माह में एजेंसी को ब्लैक लिस्टेड कर दिया था। बताया कि एजेंसी सिन्हा कंस्ट्रशन जब तक इन दोनों कामों को पूरा नहीं करेंगी, तब तक पूरे राज्य में एजेंसी को कोई नया काम नही मिलेगा।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….