प्राथमिकी के 48 घंटे के अंदर पुलिस ने किया अपहरण मामले का उद्भेदन
गिरिडीह झारखंड

प्राथमिकी के 48 घंटे के अंदर पुलिस ने किया अपहरण मामले का उद्भेदन

मुजफ्फरपुर से अपहृत किशोर को छुड़ाने के साथ ही अपराधियों को किया गिरफ्तार

एसपी ने प्रेसवार्ता कर दी जानकारी कहा किशोर के चाचा ने कराया था अपहरण

गिरिडीह। नगर थाना क्षेत्र के ऑफिसर कॉलोनी से अपहृत किशोर को पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया। पुलिस टीम ने अपहरण कांड में शामिल आरोपियों को भी दबोचने में सफलता पाई है। शुक्रवार को प्रेस वार्ता कर एसपी सुरेंद्र झा ने पूरे मामले पर से पर्दा उठाया। एसपी द्वारा प्रेस वार्ता में जब मामले पर से पर्दा उठाया गया तो खुलासा बेहद चैकाने वाला था और किशोर के अपहरण के पीछे उसके चाचा का ही हाथ निकला। किशोर के चाचा प्रमोद दास ने ही अपने साला के साथ मिलकर अपहरण की योजना बनाई थी और अपने सहयोगियों अब्दुल खालिद और अल्ताफ के सहयोग से घटना को अंजाम दिया था।

अपहरण कांड की गुत्थी गिरिडीह पुलिस ने केस दर्ज होने के महज 48 घंटे में सुलझा लिया और आरोपियों को बिहार के मुजफ्फरपुर जिला के कांटी थाना क्षेत्र के मानिकपुर से दबोचा गया। जहां अब्दुल खालिद के घर पर अपहरकर्ता किशोर को लेकर छुपा हुआ था।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

तीन फरवरी को हुई थी 12 वर्षीय छोटू का अपहरण, 10 लाख मांगी गई थी फिरोती

बताया जाता है कि ऑफिसर कॉलोनी निवासी शंकर दास ने पांच फरवरी को नगर थाना में अपने 12 वर्षीय भतीजे छोटू कुमार के तीन फरवरी को अचानक गायब हो जाने और चार फरवरी को अपहरणकर्ताओं द्वारा दस लाख रुपये फिरौती की मांग करने की शिकायत दर्ज कराई थी। जिसके बाद पुलिस मामले की अनुसंधान में जुट गई थी। जांच पड़ताल के क्रम में अपहरनकर्ताओं का तार मुजफ्फरपुर से जुड़ा पाया गया और टीम गठित कर छापेमारी की गई। नगर थाना इंस्पेक्टर दिलीप यादव के नेतृत्व में स्पेशल टीम ने कार्रवाई को अंजाम दिया और चाचा प्रमोद दास के साथ ही अब्दुल खालिद और अल्ताफ को गिरफ्तार करने के साथ ही फिरौती की मांग करने में प्रयोग किये गए फोन को भी बरामद कर लिया है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….