महुआटांड़ स्थित धार्मिक स्थल में सूअर के बच्चे का मरा हुआ शव देख भड़के लोग
गिरिडीह झारखंड

महुआटांड़ स्थित धार्मिक स्थल में सूअर के बच्चे का शव देख भड़के लोग

लोगों ने किया हंगामा, विधायक और पुलिस के समझाने पर हुए शांत

गिरिडीह। त्योहार के दौरान कुछ असमाजिक तत्वों ने एक समुदाय के धार्मिक स्थल में सूअर के बच्चे का शव फेंक कर माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया। लेकिन अमन और शांति पंसद लोगों ने माहौल को बिगड़ने से बचा लिया। जानकारी मिलने के बाद गांडेय विधायक सरफराज अहमद और मुफ्फसिल थाना प्रभारी रत्नमोहन ठाकुर भी मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के महुआटांड़ गांव पहुंचे और स्थानीय लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया। हालांकि धार्मिक स्थल में सूअर के बच्चे का शव फेंके जाने से गांव के एक समुदाय के लोग काफी भड़के हुए थे।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

धार्मिक स्थल की सफाई और सिरनी चढ़ाने पहुंची महिला की नजर पड़ी

गांव के अब्दुल रहमान, पिंकू अंसारी और महबूब आलम ने बताया कि गांव के धार्मिक स्थल के सफाई का जिम्मा गांव की नजमा खातून पर है। गुरुवार को जब नजमा खातून धार्मिक स्थल की सफाई कर सिरनी चढ़ाने गई, तो देखा कि धार्मिक स्थल के भीतर एक बोरे में कुछ पड़ा हुआ है। जिससे खून टपक रहा है। नजमा ने मामले की जानकारी पहले अपने भाई और उसके बाद आस-पास के लोगों को दिया। पलभर में ही काफी संख्या में लोगों की भीड़ जुट गई। पहले तो बंद बोरे से सिर्फ पांव ही नजर आ रहा था। इस बीच स्थानीय लोगों ने मामले की जानकारी मुफ्फसिल थाना पुलिस को दिया। इसके बाद पुलिस पहुंची और पुलिस के मौजदूगी में बोरे को काटा गया।

जिसमें सूअर के बच्चे का मरा हुआ शव मिलने के बाद लोग भड़क उठे और हंगामा करने लगे। इस बीच पुलिस ने मरे हुए शव को जब्त कर साथ ले गई।

आरोपी को चिन्हित कर की जायेगी कार्रवाई

इधर पहले से इसी इलाके का भ्रमण कर रहे गांडेय विधायक सरफराज अहमद भी महुआटांड गांव पहुंचे और स्थानीय लोगों से बात कर लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया। इस दौरान विधायक डाॅ. अहमद और थाना प्रभारी ठाकुर ने कहा कि जिन लोगांे ने ऐसा किया है। उसकी पहचान निश्चित तौर पर कार्रवाई किया जायेगा। किसी सूरत में माहौल खराब करने वालों को नहीं बख्शा जाएगा।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….