एसीबी ने बेंगाबाद के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ. कुंदन को किया गिरफ्तार
गिरिडीह झारखंड

एसीबी ने बेंगाबाद के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ. कुंदन को किया गिरफ्तार

बेंगाबाद के गेट-ग्रिल मिस्त्री से पांच हजार ले रहे थे धूस

गिरिडीह। धनबाद एसीबी भष्ट्राचार की टीम ने मंगलवार को गिरिडीह के बेंगाबाद के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ. कुंदन कुमार को पांच हजार घूस लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी कुंदन कुमार को घूस लेने के दौरान एसीबी टीम के पदाधिकारियों ने सारी कार्रवाई धनबाद के कार्यपालक दडांधिकारी गुलजार अंजूम के मौजदूगी में किया। एसीबी टीम के साथ कार्यपालक दडांधिकारी गुलजार के साथ डीएसपी समीर तिर्की और एसआई कृष्णानंद सिंह खुद भी आएं हुए थे।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….

एसीबी के जवानों से उलझ पड़ा चिकित्सा पदाधिकारी

एसीबी टीम के पदाधिकारियों ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को जिस वक्त बेंगाबाद के स्वास्थ केन्द्र स्थित उनके केबिन से गिरफ्तार किया। उस वक्त अपनी गिरफ्तारी का प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने जमकर विरोध करते हुए एसीबी के जवानों से उलझ पड़े। खुद के बचाव में एसीबी टीम के समक्ष तर्क रखने के साथ प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ. कुंदन कुमार जवानों से हाथापाई भी करने का प्रयास किया। लेकिन एसीबी के जवानों ने काफी मशक्कत के बाद घूसखोर चिकित्सा पदाधिकारी को काबू कर पाएं। इस दौरान जब डाॅ. कुंदन कुमार को उनके केबिन से बाहर निकाल कर एसीबी की टीम वाहन में ले जाने के प्रयास में लगी, तो इस दौरान भी प्रभारी पदाधिकारी ने हाईवोल्टेज ड्रामा किया।

बावजूद जवान किसी प्रकार उनको अपने वाहन में बिठाकर शहर के अरगाघाट स्थित उनके नीजी आवास पहुंचे, जहां उनके घर को खंगाला गया। हालांकि घर से एसीबी को कुछ हासिल नहीं हुआ। टीम प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी दबोच कर धनबाद ले गए।

25 जनवरी को ले चुके थे पांच हजार घूस

जानकारी के अनुसार बेंगाबाद में राज्य सरकार की ओर से एक नए स्वास्थ केन्द्र का निर्माण कराया गया है। जिसमें गेट-ग्रिल लगाने का कार्य बेंगाबाद के जीतेन्द्र कुमार को दिया गया था। पूरे स्वास्थ केन्द्र में गेट-ग्रिल लगाने के लिए 55 हजार का बिल बना था। लिहाजा, इसी बिल को पास करने के लिए गेट-ग्रिल मिस्त्री जीतेन्द्र कुमार से 10 हजार का घूस मांगा जा रहा था। जिसमें जीतेन्द्र ने पहली किस्त पांच हजार बीतें 25 जनवरी को भुगतान किया था। वहीं दुसरी किस्त मंगलवार को देने का वक्त तय किया गया था। मंगलवार को जब जीतेन्द्र दुसरी किस्त पांच हजार का भुगतान करने पहुंचे, तो एसीबी के पदाधिकारियों ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को रंगेहाथ पांच हजार लेते दबोच लिया।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर