बकरी पालन प्रशिक्षण शिविर जारी बकरी पालन को स्वरोजगार के रूप में अपना सकती है महिलाएं: पशु सखी
गिरिडीह जमुआ झारखंड

बकरी पालन प्रशिक्षण शिविर जारी बकरी पालन को स्वरोजगार के रूप में अपना सकती है महिलाएं: पशु सखी

गिरिडीह (जमुआ)। घरेलू कामों के साथ साथ महिलाएं न सिर्फ बकरी पालन का काम बेहतर ढंग से कर सकती हैं, बल्कि इसे स्वरोजगार के रूप में भी अपना सकती है। उक्त बातें जमुआ की पशु सखी गायत्री देवी ने बुधवार को दुम्मा में नाबार्ड और आइडिया के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित आजीविका उद्यमिता विकास कार्यक्रम के तहत चल रहे बकरी पालन के प्रशिक्षण के दौरान कही। उन्होंने कहा कि बकरी की देखभाल बच्चों की तरह ही करना होगा। पशु सखी ने बकरियों को होने वाले बिमारी और लक्ष्ण की जानकारी देने के साथ ही उसका इलाज और निदान भी बताया।

लोगों को मिले सरकारी योजनाओं का लाभ

आइडिया के प्रोग्राम कोर्डिनेटर मुकेश कुमार ने कहा कि बकरी पालन के लिए संस्था सभी महिलाओं को बैंक से लोन दिलायेगी। उन्होंने कहा कि लोन के साथ सब्सीडी और सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ सभी महिलाओं को मिले यही हमारा प्रयास होगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम में भागीरथ शर्मा व सुभाष कुमार ने भी महिलाओं को कई जानकारी दी। मौके पर सुरेन्द्र शर्मा सहित दो समूहों के प्रशिक्षणार्थी मौजूद थे।

 ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर