सरिया के कपड़ा व्यवसायी के घर हुए डकैती मामले का पुलिस ने किया उद्भेदन
गिरिडीह झारखंड

सरिया के कपड़ा व्यवसायी के घर हुए डकैती मामले का पुलिस ने किया उद्भेदन

कमिटी के 30 हजार बकाया नहीं मिलने पर डकैती की घटना को दिया गया अंजाम

गिरिडीह। दो कपड़ा कारोबारियों के यहां हुए डकैती का उद्भेदन गिरिडीह के सरिया थाना पुलिस ने दो सप्ताह बाद करने में सफलता पाई है। इस दौरान पुलिस ने डकैती में शामिल पांचो अपराधियों को लूटे समानों के साथ दबोचने में सफल रहे है। शनिवार को पुलिस लाईन में प्रेसवार्ता कर एसडीपीओ विनोद महतो और सरिया थाना प्रभारी बिन्देश्वरी दास ने बताया कि महज 30 हजार के बकाया रहने के कारण बंटी साव और योगेंन्द्र साव के घर और दुकान में डकैती की घटना को अंजाम दिया गया। हालांकि डकैती की घटना सिर्फ बंटी साव के घर अंजाम देने की थी। लेकिन जोगेन्द्र साव और बंटी साव आपस में चाचा-भतीजा होने के साथ दोनों के घर एक साथ जुड़े है। लिहाजा, अपराधियों के इस गिरोह के टारगेट में जोगेन्द्र साव भी आ गए।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

धनबाद के अपराधियों ने दिया घटना को अंजाम

प्रेसवार्ता के दौरान बताया गया कि पांचो गिरफ्तार अपराधियों में डकैती का मास्टर माइंड महबूब अंसारी सरिया का ही रहने वाला है। वहीं चार अपराधी धनबाद जिला के अलग-अलग थाना क्षेत्र के रहने वाले है। गिरफ्तार अपराधियों में सरिया थाना के छत्तरबाद गांव निवासी महबूब अंसारी, धनबाद के हरिहरपुर निवासी मो. सरफराज अंसारी, कतरास थाना क्षेत्र के गुहीबांध गांव निवासी सलमान अंसारी, दक्षिणाबाद निवासी जमालुद्दीन अंसारी और घुनघुसा निवासी ग्यासुद्दीन अंसारी शामिल है। प्रेसवार्ता के क्रम में एसडीपीओ विनोद महतो ने सरिया के बागोडीह मोड़ के समीप जिन दो कपड़ा कारोबारी बंटी साव के कपड़ा दुकान राजनंदनी वस्त्रालय और जोगेन्द्र साव उर्फ योगराज नायक के कपड़ा दुकान अंजली वस्त्रालय और घर में डकैती की योजना सरिया के महबूब अंसारी ने बनाया था।

कपड़ा कारोबारी बंटी साव के साथ महबूब खेलता था कमेटी: एसडीपीओ

एसडीपीओ विनोद महतो ने बताया कि बंटी साव बागोडीह के स्थानीय लोगों के साथ कमेटी खेला करता था। जिसमें सरिया का महबूब अंसारी भी इस कमेटी में पैसे लगाया करता था। कमेटी खेलने के दौरान महबूब अंसारी बंटी साव पर 30 हजार का लेनदार हो गया। लिहाजा, महबूब जब अपने 30 हजार का बकाया बंटी साव से मांगना शुरु किया, तो बंटी ने नगद देने से इंकार कर दिया। बंटी साव के इसी हरकत से गुस्साएं महबूब ने अपने धनबाद के हरिहरपुर निवासी जीजा सरफराज अंसारी से संपर्क कर बंटी साव के घर और दुकान में डकैती की योजना बनाया।

साले महबूब से पूरी जानकारी लेने के बाद सरफराज ने धनबाद के तीनों अपराधी से संपर्क कर बंटी साव के घर व दुकान में धावा बोला। लेकिन बंटी साव के घर और दुकान जाने का रास्ता जोगेन्द्र के दुकान होकर जाता था। इसलिए अपराधियों ने दोनों के घर व दुकान में डकैती की घटना को अंजाम दिया।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….