एनआरसी, सीएए व एनपीआर के विरोध में गांडेय में किया विरोध प्रदर्शन
गिरिडीह झारखंड

एनआरसी, सीएए व एनपीआर के विरोध में गांडेय में किया विरोध प्रदर्शन

राष्ट्रपति के नाम सोंपा ज्ञापन

गिरिडीह। एनआरसी, सीएए एंव एनपीआर के विरुद्ध मंगलवार को गांडेय में विरोध प्रदर्शन किया गया। विरोध प्रदर्शन में शामिल लोगों ने सरकार को जमकर कोसा तथा इसे काला कानून बताया। इस दौरान विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों ने गांडेय बीडीओ को राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन सौंपा।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

बिना घर और सड़कों पर रात बिताने वाली जनता कैसे साबित करेंगे नागरिकता

इस दौरान गांडेय प्रखंड मुख्यालय परिसर में आयोजित सभा में विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों ने शांतिपूर्ण तरीके से संबोधित कर एनआरसी को संविधान के खिलाफ बताया। मौके पर उपस्थित धनबाद से आये आफताब आलम नकवी ने कहा कि हिन्दुस्तान की तीस करोड़ जनता के पास अपनी जमीन नहीं है, एक करोड़ सत्तर लाख जनता के पास रहने को घर नहीं है, वह फुटपाथ पर सोकर अपना जीवन यापन करते हैं। पन्द्रह करोड़ लोग खानाबदोश के रूप में अपना जीवन यापन करते हैं। ये अपनी नागरिकता कैसे साबित करेंगे। नागरिकता संशोधन बिल भारतीय संविधान के लिए खतरा है।

संविधान के साथ खिलवाड़ कर रही है केन्द्र सरकार

मौके पर उपस्थित जामिया मिल्लिया के मो शहबान, एजाज अहमद ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एंव अमित शाह देश में एनआरसी, सीएए एंव एनपीआर लाकर भारत के संविधान से खेल रहे है। कहा कि रामलीला मैदान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कहते हैं कि उन्होंने एनआरसी की बात नहीं की है पर अमित शाह कहते हैं कि एनआरसी असम एवं पश्चिम बंगाल में ही नहीं वरन् पुरे भारत में लागु होगी। मौके पर उपस्थित अधिवक्ता साजिद महमूद, जेवीएम अल्पसंख्यक मोर्चा के जिला अध्यक्ष सब्बीर अहमद खान, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के मुफ्ति मो सईद, जेएनयू के लेयाकत रियाजी, अधिवक्ता रंजन विद्रोही समेत अन्य लोगों ने सीएए एनआरसी एंव एनपीआर के विरुद्ध खुलकर सरकार की निंदा की तथा इसे संविधान के खिलाफ बताया।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….