आवासीय प्रशिक्षण के नाम पर खानापूर्ति, शाम होते ही गायब हो जाते हैं प्रशिक्षक और प्रशिक्षु
झारखंड बेंगाबाद

आवासीय प्रशिक्षण के नाम पर खानापूर्ति, शाम होते ही गायब हो जाते हैं प्रशिक्षक और प्रशिक्षु

बेंगाबाद(गिरिडीह)। स्वच्छ भारत मिशन के तहत कर्णपुरा स्थित एक होटल में आयोजित प्रशिक्षण के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है। प्रशिक्षण शिविर के नाम पर दी गयी राशि का बंदरबांट किया जा रहा है। इस आवासीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में शाम के 5:00 बजते ही सभी प्रतिभागी व प्रशिक्षक प्रशिक्षण स्थल से गायब हो जाते हैं। प्रशिक्षण कार्यक्रम के पहले दिन सोमवार की शाम को प्रशिक्षण स्थल से सभी नदारद दिखे।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की ओर से आयोजित है शिविर

पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की और से कर्णपुरा स्थित एक होटल में सुजल एवं स्वच्छ गांव विषय पर तीन दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण का शुभारंभ तो तामझाम के साथ किया गया। कार्यक्रम में बेंगाबाद के 14 पंचायतो से मुखिया, पंचयात सचिव, जलसहिया और स्वच्छता ग्राही सहित 56 प्रतिभागियों को सुजल एवं स्वच्छ गांव के उद्देश्य , लक्ष्य और कार्यक्रम की जानकारी देनी थी। मगर कार्यक्रम में सभी पंचायत सचिव भी उपस्थित नही हुए, जबकि कई मुखिया के स्थान पर उनके प्रतिनिधि उपस्थित हुए। वहीं शाम के साढ़े पांच बजट ही कार्यक्रम को समाप्त कर दिया गया।

पल्ला झाड़ने में लगे रहे संबंधित लोग

इस बाबत जब बेंगाबाद के बीपीएम अंजती कुमारी और नारायण पंडित से संपर्क करने की कोशिश की गई तो दोनो ने फोन रिसीव नही किया। जबकि प्रशिक्षण में पहुंचे मुखिया मो शमीम, रामकुमार वर्मा, प्रतिनिधि पूरण ठाकुर, पांचू मियां, पंचायत सचिव मो तैयब, स्टीफन मरांडी आदि ने बताया कि शाम के साढ़े पाँच बजे प्रशिक्षण सत्र की समापन कर दी गई। इधर जब विभाग के कार्यपालक अभियंता अनूप कुमार से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि स्थानीय होने के कारण लोग नही रुके। विभाग की ओर से रुकने की व्यवस्था की गई है। कल से सभी रोका जाएगा।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….