दवा व्यवसायी हत्याकांड मामले का पुलिस ने 24 घंटे में किया उद्भेदन
गिरिडीह झारखंड टॉप-न्यूज़

दवा व्यवसायी हत्याकांड मामले का पुलिस ने 24 घंटे में किया उद्भेदन

आरोपी हिमायु उर्फ़ हीमैन को पुलिस ने निरसा से किया गिरफ्तार

मधुपुर। मधुपुर थाना क्षेत्र के पनाहकोल निवासी सेवानिवृत चिकित्सक सह दवा व्यवसायी उमेश मिश्रा हत्याकांड के आरोपी हिमायु उर्फ़ हीमैन को मधुपुर पुलिस ने धनबाद पुलिस की मदद से 24 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया है। शनिवार को मधुपुर थाना में मधुपुर एसडीपीओ वशिष्ठ नारायण सिंह व एसडीओ सत्येंद्र प्रसाद ने संयुक्त रूप से प्रेसवार्ता आयोजित कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी वहां से फरार हो गया था और अपने एक रिश्तेदार के घर जामताड़ा जा पहुंचा। लेकिन कुछ घंटे बाद ही वह वहां से धनबाद के निरसा भाग गया और अपनी फुआ के यहां छिपकर रहने लगा।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

मोबाइल लोकेशन के आधार पर हुई गिरफ़्तारी

दवा व्यवसायी हत्याकांड मामले का पुलिस ने 24 घंटे में किया उद्भेदन

घटना के बाद देवघर एसपी नरेंद्र कुमार सिंह के निर्देश पर एसआईटी टीम का गठन किया गया था। जिसमें एसडीपीओ वशिष्ठ नारायण सिंह, मधुपुर थाना प्रभारी सत्येन्द्र प्रसाद, अंचल इंस्पेक्टर सुनील टोपनो सहित टेक्निकल टीम के आरक्षी को शामिल किया गया था। टीम ने आरोपी के मोबाइल लोकेशन को ट्रेस करते हुए उसका लगातार पीछा किया। मोबाइल लोकेशन के आधार पर ही मधुपुर पुलिस ने धनबाद पुलिस से संपर्क किया और धनबाद पुलिस की मदद से उसे निरसा स्थित उसके फुआ के घर से गिरफ्तार कर लिया।

नशीली दवा का सेवन करता था आरोपी

हत्या के कारणों के बारे में बताया कि आरोपी नशीली दवा लेने का आदी था। वह दवा व्यवसाई उमेश मिश्रा की दुकान से हमेशा नतरोलेक्स नामक नशीली दवा लिया करता था। घटना के दिन भी वह नशीली दवा लेने व्यवसाई की दुकान पहुंचा था, लेकिन व्यवसाई ने दवा देने से इंकार कर दिया। जिसके बाद आरोपी ने तैस में आकर तलवार से दवा व्यवसाई की निर्मम हत्या कर दी।

क्या थी घटना

गौरतलब है कि शुक्रवार की दोपहर पनाहकोला मोहल्ला निवासी सेवानिवृत चिकित्सक उमेश चंद्र मिश्रा के पड़ोस में रहने वाले इकबाल अंसारी का 16 वर्षीय पुत्र हिमायू उर्फ़ हीमैन लूट की नियत से दीवार फांद कर घर में घुस आया था और मृतक से अलमीरा की चाभी मांगने लगा। जब पूर्व चिकित्सक ने चाभी देने से इंकार किया तो आरोपी ने तलवार घोप कर उसकी हत्या कर दी थी। इस बीच हल्ला सुनकर अपने पिता को बचाने आये पुत्र ज्ञानेश मिश्रा पर भी आरोपी ने तलवार से हमला कर दिया था। जिससे वह भी गंभीर रूप से जख्मी हो गया था। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी वहां से भाग खड़ा हुआ था।

हत्या के विरोध में कई संगठनों ने किया था मधुपुर बंद

दवा व्यवसायी हत्याकांड मामले का पुलिस ने 24 घंटे में किया उद्भेदन

दवा व्यवसायी की निर्मम हत्या के विरोध में विभिन्न संगठनों द्वारा शुक्रवार को बंद का आह्वान किया गया था। पुलिस पर दबाव बनाने के लिए आहूत बंद के दौरान दुकानदारों और व्यवसायियों ने भी स्वेच्छा से समर्थन देते हुए अपने-अपने प्रतिष्ठान को सुबह से ही बंद रखा था। इस दौरान लोगों में घटना को लेकर आक्रोश भी देखने को मिला था। बंद समर्थकों ने मधुपुर थाना के मुख्य गेट पर धरना देते हुए आरोपी की गिरफ़्तारी की मांग की थी।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….