भाजपा को रास नहीं आयी है प्रदेश कार्यसमिति की बैठक
गिरिडीह झारखंड टॉप-न्यूज़ राजनीति

भाजपा को रास नहीं आयी है प्रदेश कार्यसमिति की बैठक

जब भी हुई बैठक, पार्टी का हुआ सुपड़ा साफ

अभय वर्मा

गिरिडीह : भाजपा को गिरिडीह में प्रदेश कार्यसमिति की बैठक कभी रास नही आयी है। पार्टी के कद्दावर नेता जब भी गिरिडीह में जुटे, दल का बंटाधार हुआ है। भाजपा का यह पुराना इतिहास रहा है। दशक पूर्व हुए चुनाव में भी पार्टी की यह दुर्गति हुई थी। विदित हो कि 2009 के चुनाव से पूर्व 2007 में स्थानीय नगर भवन में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक हुई थी। तब दो दिवसीय प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में राज्य के सभी आला नेताओं का जुटान गिरिडीह में हुआ था पर दो साल बाद हुए 2009 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को एक भी सीट पर जीत नसीब नही हुई थी। गिरिडीह, राजधनवार व जमुआ की सीट झाविमो, गांडेय पर कांग्रेस, बगोदर पर माले तथा डुमरी पर झामुमो ने जीत दर्ज की थी।

भाजपा की तब दो स्थानों पर जमानत जब्त हो गई थी। इतिहास से सबक लेकर 2014 के चुनाव से पूर्व भाजपा ने यह भूल नही की और पार्टी को भारी सफलता मिली। पार्टी को गिरिडीह सहित गांडेय, जमुआ व बगोदर में जीत मिली। 2014 विस चुनाव में माले को एक ही सीट मिली पर चुनाव क्षेत्र बदल गया। तब के चुनाव में माले को बगोदर की बजाय धनवार सीट पर जीत मिली थी पर यहां काबिलेगौर है कि बगोदर में माले मामूली अंतर से जीत की दहलीज पार करने में नाकाम रही थी।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

2017 में हुई थी प्रदेश कार्यसमिति की बैठक

2019 के विधानसभा चुनाव से पूर्व जुलाई 2017 में शहर के उत्सव उपवन में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक हुई थी। प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास के अलावा भाजपा के कई दिग्गज नेताओं का जुटान हुआ था। दो दिनी बैठक में जिले के छः विधानसभा सहित राज्य में जीत का परचम फहराने की रणनीति पर गहन मंथन हुआ था। पर विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद पार्टी को पूर्व की शर्मिन्दगी से जमुआ के केदार हाजरा ने बचा लिया। भाजपा को गिरिडीह, बगोदर व गांडेय की सीट खोनी पडी। संभवतः भाजपा भविष्य में विस चुनाव से पूर्व प्रदेश कार्यसमिति की बैठक गिरिडीह में कराने का जोखिम न ले।

2007 की भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक के बाद 2009 के चुनाव में झाविमो को लाभ हुआ था पर 2017 की बैठक के बाद 2019 के चुनाव में वह लाभ झामुमो को हुआ। हैट्रिक की चाह रखने वाले गिरिडीह के पूर्व विधायक निर्भय शाहाबादी को झामुमो के सुदीव्य कुमार ने करारी शिकस्त दी वहीं भाजपा को बगोदर, गांडेय व धनवार पर हार मिली।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….