रिलायबल चीट फंड कंपनी के कर्मियों ने कंपनी पर लगाया 1 करोड़ रुपए गबन का आरोप
गांवां झारखंड

रिलायबल चीट फंड कंपनी के कर्मियों ने कंपनी पर लगाया 1 करोड़ रुपए गबन का आरोप

गावां थाना में कंपनी के पांच लोगों के खिलाफ दर्ज कराई प्राथमिकी

गांवा(गिरिडीह)। गांवा प्रखंड के पिहरा निवासी सह रिलायबल कंपनी के 7 कर्मचारियों द्वारा गांवा थाना में लिखित रूप से आवेदन देकर गांवा थाना प्रभारी से कोलकत्ता की रिलायबल मल्टी मैनेजेरियल सर्विस लिमिटेड कंपनी पर लोगांे के 1 करोड़ रुपए गबन करने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है। इसके साथ ही उन्होंने कंपनी में कार्यरत 7 लोगों को भी अभियुक्त बनाया है। बताया जाता है कि वर्ष 2009 में प्रदेश के अन्तर्गत विभिन्न जिलों एवं अनुमंडलों में कंपनी का कार्य क्षेत्र कायम करने हेतु उनसे संपर्क किया गया था और उन्हें बतौर कंपनी एजेंट बनकर काम करने को कहा गया था।

जिसके बाद अभियुक्तों द्वारा कंपनी के कार्य को आगे बढ़ाने के लिए दिसंबर 2009 में बिहार के नवादा जिला में सीताराम कॉम्प्लेक्स एवं वर्ष 2012 में गांवा प्रखंड के पिहरा मानपुर गांव में अजय बरनवाल के घर कंपनी का कार्यालय खोला गया और कर्मचारियों कि बहाली की गई।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

दोनों कार्यालय में कई लोगों से करीब एक करोड़ रूपये कराया जमा

जिसके बाद इन्हीं दो कार्यालयों में अलग-अलग अपने एवं परिवार के अन्य सदस्यों के नाम पर विभिन्न व्यक्तियों से 1 करोड़ रुपए कंपनी में जमा करवाया गया। जमा की अवधि पूरी हो जाने के बाद भी जमाकर्ताओं को जब उनके पैसे कंपनी द्वारा नहीं मिले तो लोगो ने एजेंटों के पास शिकायत करना शुरु कर दिया, जिसके बाद एजेंट ने अभियुक्तों को फोन के माध्यम से संपर्क साधा मगर उन्हें सिर्फ आश्वासन मिलता रहा। साथ ही यह भी निर्देश मिला की कंपनी में दूसरे जमाकर्ताओं के पैसे जमा कराते रहिए जल्द ही सभी को पैसा मिल जाएगा।

मगर नवंबर 2014 में अभियुक्तों ने जब एजेंटों का फोन उठाना बंद कर दिया, जिसके बाद सभी को पूरा विश्वास हो गया कि कंपनी भाग गई है और उसके बाद एजेंटों ने अपने स्तर से कंपनी से लोगों को पैसे वापस दिलाने का पूरा प्रयास भी किया मगर उनके हाथ कुछ ना लगा। अंत में जाकर कंपनी के कर्मचारियों ने आज गांवा थाना में लिखित आवेदन देकर कार्यवाही की मांग की है।

आवेदन में 5 लोगों को बनाया गया अभियुक्त

कर्मचारियो ने लिखित आवेदन में कोलकाता निवासी संजय कर्माकार पिता सुशील करमाकार, अर्जुन मजूमदार पिता सुनील मजूमदार, चतरा निवासी ओमप्रकाश गुप्ता पिता शालिग्राम प्रसाद गुप्ता, गया जिला निवासी मुकेश कुमार वर्मा पिता अशोक कुमार वर्मा एवं पिहरा ब्रांच के ब्रांच मैनेजर व कोलकाता निवासी दीपांकर दास को अभियुक्त बनाया है।

इन लोगों द्वारा दिया गया आवेदन

विकास चैधरी पिता कैलाश चैधरी, मो0 नासिर पिता मो0 तासीर, रंजू देवी पति उमेश शर्मा, मजहर आलम पिता मो0 अलाउद्दीन, बालेश्वर मिस्त्री पिता भैरो मिस्त्री, संतोष कुमार पिता स्व बिसुन साव, मो0 समशाद आलम पिता मो साफिक ने थाने में लिखित आवेदन दिया है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….