गिरिडीह झारखंड

शास्त्री नगर में संचालित प्रसाद क्लिनिक में इलाज के क्रम में महिला की मौत परिजनों ने लगाया इलाज में लापरवाही का आरोप, किया हंगामा

गिरिडीह : शहर के शास्त्री नगर में संचालित प्रसाद क्लिनिक में इलाजरत एक महिला की मौत सोमवार को हो गई। मृतका रिंकु वर्मा के परिजनों ने चिकित्सक पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। हालांकि समय रहते मौके पर पहुंची नगर पुलिस ने परिजनों को समझा बुझाकर शांत किया। इस दौरान पति ने कहा कि डेक्सोना और टैªक्सोल इंजेक्शन चिकित्सक ने रिंकु को लगाया था। इस दौरान चिकित्सक डा. गोंविद प्रसाद के कहने पर क्लिनिक के काम्पंउडर ने मृतका का ब्ल्ड सैंपल लेकर जांच में जुट गए थे। इधर इंजेक्शन लगते ही रिंकु की स्थिति बेहतर होने के बजाय ओर बिगड़ती चली गई। रिंकु उल्टी की शिकायत करते हुए बेहोश हो गई और कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई।

सिर दर्द और बुखार आने के कारण कराया था भर्ती

मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के लेदा के लालपुर गांव निवासी शंकर वर्मा सहित परिजनो ने बताया कि रविवार को रिंकु के सिर में दर्द और बुखार आया था। सोमवार को भी बुखार व सिर दर्द होने पर वे अपनी पत्नी रिंकू को लेकर प्रसाद क्लिनिक पहुंचे और इलाज के लिए दोपहर करीब 12 बजे भर्ती कराया। जहां चिकित्सक डा. प्रसाद ने मृतका को क्लिनिक में भर्ती करने के साथ ही इलाज शुरु कर दिया। चिकित्सक ने पति से कहा कि उनकी पत्नी का खून जांच कर देखना होगा कि क्या परेशानी हो रही है। लेकिन वह दो इंजेक्शन लगा दे रहे है। जिससे तत्काल स्थिति में कुछ सुधार हो जायेगा। चिकित्सक ने रिंकू को दो इंजेक्शन लगाया। इंजेक्शन लगते ही रिंकू वर्मा की स्थिति ओर बिगड़ गई।

चिकित्सक ने परिजनों के आरोपों को बताया गलत

इधर चिकित्सक डा. प्रसाद ने परिजनों के आरोपों को गलत बताते हुए कहा कि वह हर मरीज को इंजेक्शन लगाने से पहले जांच करते है, फिर इंजेेक्शन लगाते है। लेकिन रिंकु को जब वह इंजेक्शन लगाएं, तो उसके शरीर में कनर्भसन होना शुरु हो गया। ऐसे में वह मरीज की स्थिति सामान्य करने के प्रयास में जुट गए। बावजूद स्थिति बिगड़ते देख वह परिजनों को मरीज को तुंरत धनबाद ले जाने का सुझाव दिया। लेकिन इलाज के क्रम में उसकी मौत हो गई।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर