सलूजा गोल्ड इंटरनेशनल स्कूल के नन्हें छात्रों की टीम सर्वधर्म से हुए अवगत
गिरिडीह झारखंड

सलूजा गोल्ड इंटरनेशनल स्कूल के नन्हें छात्रों की टीम सर्वधर्म से हुए अवगत

स्कूल प्रबंधन ने कैसा हो हमारा पास-पड़ौस कार्यक्रम के तहत नन्हें छात्रों को कराया शहर शैक्षणिक भ्रमण

बैंक के साथ नगर थाना भी घूमे, और कार्यप्रणाली से हुए अवगत

गिरिडीहः मंदिर में पूजा कैसे होती है और देवी-देवताओं की उपासना कैसे किया जाता है या, मस्जिद मे अजान कैसे होता है और अल्लाह का इबादत किस प्रकार होता है। सभी धर्मो के पूजा पद्धति से रुबरु होने का मौका बुधवार को गिरिडीह के सलूजा गोल्ड इंटरनेशनल के केजी-टू के नन्हें छात्रों को मिला। यही नही पुलिस किस प्रकार समाज की सुरक्षा करती है। इन सबों से अवगत होने का अवसर छात्रों को सलूजा गोल्ड स्कूल प्रबंधन ने शैक्षणिक भ्रमण कैसा है हमारा पास-पड़ौस कार्यक्रम के तहत कराया गया।

इस दौरान सलूजा गोल्ड स्कूल प्रबंधन द्वारा केजी टू के छात्रों का शहर भ्रमण का। स्कूल की प्राचार्य ममता अर्चना शर्मा के नेत्तृव में स्कूल की शिक्षिकाएं फाल्गुनी पांडेय के साथ सहायक शिक्षक धनजंय कुमार के अलावे सोनू और स्न्नेहा समेत कई शिक्षक नन्हें बच्चों के साथ स्कूल बस में सवार हो कर सबसे पहले शहर के नगर थाना पहुंचे। जहां नगर थाना प्रभारी आदिकांत महतो के नेत्तृव में पुलिस पदाधिकारियों ने बच्चों का स्वागत पूरे उत्साह के साथ किया। इस दौरान केजी टू के तमाम नन्हें छात्रों ने पहले हर पुलिस पदाधिकारियों से हाथ मिलाया, और बुके देकर पदाधिकारियों का सम्मान किया।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे  YouTube चैनल पर

इसके बाद नगर थाना प्रभारी ने इन नन्हें छात्रों को नगर थाना के कार्य करने के पद्धति से रुबरु कराया। जिसमें छात्रों को बताया गया कि पुलिस जनता की सेवा के लिए ही है। समाज के अपराधियों और नक्सलवाद के खिलाफ ही पुलिस लड़ाई लड़ती है। जबकि जनता की सुरक्षा के लिए पुलिस हमेशा तत्पर रहती है। इस दौरान छात्रों को नगर थाना प्रभारी व अन्य पदाधिकारियों ने थाना के कार्य करने के सिस्टम को समझाया, कि किसी के साथ कोई घटना होने पर पुलिस घटना के शिकार हुए व्यक्ति से एक आवेदन लेती है।

फिर उस आवेदन के आधार पर केस दर्ज कर जांच शुरु करती है। इसके बाद दोषी के खिलाफ कार्रवाई किया जाता है। थाना प्रभारी ने मौके पर छात्रों को थाना के ऑनलाइन  सेंटर भी लेकर पहुंचे, जहां छात्रों को समझाया गया कि अब पुलिस हाईटेक हो चुकी है। हर शिकायतकर्ता अपने मामले की जानकारी ऑनलाइन  भी दर्ज करा सकता है। थाना में आरोपियों को रखने वाले हाजत कक्ष के साथ सिरिस्ता कक्ष भी दिखाया गया। इसके बाद थाना प्रभारी आदिकांत समेत अन्य पुलिस पदाधिकारियों ने छात्रों को टॉफी देकर उनका स्वागत किया।

सलूजा गोल्ड इंटरनेशनल स्कूल के नन्हें छात्रों की टीम सर्वधर्म से हुए अवगत

इसके बाद सभी छात्रों को लेकर स्कूल के शिक्षकों की टीम शहर के प्रधान डाकघर पहुंची, और जहां प्रधान डाकपाल सोमनाथ मित्रा ने सभी बच्चों का स्वागत किया। डाकपाल ने मौके पर छात्रों को बताया कि अब हर योजना आॅनलाईन हो चुका है। ऐसे में डाक विभाग की योजना से जितने ग्राहक जुड़ते है, तो डाक विभाग का हर ग्राहकों का डाटा तैयार करती है। यही नही नन्हें छात्रों को डाकपाल मित्रा ने पोस्टकार्ड और लेटर लिखकर उसे एक स्थान से देश के दुसरे स्थान में भेजने के पूरे प्रकिया को समझाया। डाकपाल ने यह भी बताया कि जब मोबाइल और सोशल मीडिया का दौर नहीं था, तो दूर बैठे लोगों से संपर्क करने का एकमात्र संसाधान दूरसंचार के रुप में पत्र ही था।

इस बीच छात्रों को लेकर स्कूल शिक्षकों की टीम शहर के एक बैंक पहुंची, जहां सलूजा गोल्ड के नन्हें छात्रों का स्वागत बैंक के प्रबंधक समेत बैंक कर्मियों ने टॉफी देकर किया। इस दौरान बैंक प्रबंधक ने लॉकर में रखे ग्राहकों के सुरक्षित पैसों की जानकारी दी। प्रबंधक ने बताया कि कोई ग्राहक जब बैंक में आधार कार्ड, फोटो के साथ नए खाता खुलवाता है और अपने पैसे रखता है, तो वह ग्राहकों के पैसे होते है जो पूरी तरह से सुरक्षित रहता है। बैंक प्रबंधक ने छात्रों को सरकार के साथ बैंक की योजनाओं से जुड़ी योजनाओं की भी जानकारी दिया।

छात्रों की टीम को लेकर स्कूल की प्राचार्य ममता शर्मा इस बीच मस्जिद पहुंची, जहां नन्हें छात्रों को सुबह के साथ पांचो वक्त का नमाज पढ़ने का पूरे जानकारी से अवगत कराया गया। जबकि मंदिर और गुरुद्वारे में मत्था टेंकने की जानकारी देने के साथ पूजा की पद्धति बताया गया। वहीं चर्च में भी प्रभु यीशु के समक्ष प्रार्थना करने की जानकारी से अवगत कराया गया। छात्रों को बताया गया कि सर्वधर्म में सिर्फ मानवता की रक्षा ही सबसे बड़ा पूजा है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं  फेसबुक पेज से….