होटल कर्मी की संदेहास्पद मौत मामले में पुलिस की तफ्तीश से संतुष्ट नहीं परिजन

होटल कर्मी की संदेहास्पद मौत मामले में पुलिस की तफ्तीश से संतुष्ट नहीं परिजन

नगर थाना का किया घेराव, पुलिस पर लगाया पक्षपात का आरोप

पुलिस सीसीटीवी फुटेज को ही  आधार मान कर रही तफ्तीश

अब भी कई सवाल अनुत्तरित

मनोज कुमार पिंटू

गिरिडीह : शहर के होटल निखर में कर्मी की संदेहास्पद तरीके से हुई मौत के मामले की गिरिडीह नगर थाना पुलिस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच कर रही है और सूत्रों की मानें तो अब तक कि जांच के आधार पर प्रथम दृष्टया पुलिस इसे छत से गिरने से मौत का मामला मान रही है। जबकि परिजनों का दावा है कि सिहोडीह निवासी सीताराम दास की हत्या होटल मालिक द्वारा ही की गई है। नगर थाना में परिजनों द्वारा होटल मालिक साहिल गुप्ता पर हत्या का आरोप लगाकर केस भी दर्ज कराया गया है। लिहाजा, इसी दावे के साथ गुरुवार को परिजनों ने नगर थाना का भी घेराव किया।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

हत्याकांड को स्वाभाविक मौत बता रही पुलिस : परिजन

होटल कर्मी की संदेहास्पद मौत मामले में पुलिस की तफ्तीश से संतुष्ट नहीं परिजन

जहां मृतक सीताराम दास की मां ललिता देवी के साथ काफी संख्या में इलाके के स्थानीय लोग भी जुटे, और नगर थाना में खूब हंगामा किया। मृतक की मां ललिता देवी समेत इलाके के स्थानीय लोगों ने इस दौरान नगर थाना पुलिस पर जांच में लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस जानबूझ कर सीताराम दास हत्याकांड को स्वाभाविक मौत बता रही है। जबकि पूरा मामला आईने की तरह साफ है। परिजनों के अलावे इलाके के वार्ड पार्षद अशोक राम ने नगर थाना पुलिस से सीसीटीवी फुटेज दिखाने की मांग की। इस बीच नगर थाना प्रभारी आदिकांत महतो ने परिजनों को भरोसा दिलाया कि हत्या का केस दर्ज किया गया है। फुटेज में सीताराम दास छत से गिरता दिख रहा है। बावजूद परिजनों के संदेह के आधार पर पुलिस हर बिंदु पर जांच कर रही है। लेकिन परिजन और इलाके के ग्रामीण मानने को तैयार नहीं थे।

कई सवाल हैं अनुत्तरित

इन सबके बीच सवाल यह उठता है कि आखिर घटना की रात ऐसा क्या हुआ कि मृतक को छत से कूदने के लिए मजबूर होना पड़ा। सवाल यह भी है कि आखिर होटल प्रबंधन ने घटना के बाद होटल की सीढ़ियों को पुलिस के पहुंचने से पहले क्यों साफ किया? यही नही जब पूरे होटल में सीसीटीवी कैमरे लगे होने की बात कही जा रही है तो फिर दूसरे कैमरों की फुटेज कहां गई? और सबसे बड़ा सवाल कि मृतक के शव को होटल प्रबंधन सदर अस्पताल परिसर में छोड़ कर क्यों भाग गया? बहरहाल, इन अनुत्तरित सवालों के बीच नगर थाना पुलिस सीताराम दास की संदेहास्पाद मौत के मामले को फुटेज के आधार पर एक तरह से स्वाभाविक बताने का दावा कर रही है। इस बात को परिजन मानने को तैयार नहीं है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….