राजस्थानी फोक नृत्य को लेकर प्रतिभागियों में भारी उत्साह
गिरिडीह झारखंड

राजस्थानी फोक नृत्य को लेकर प्रतिभागियों में भारी उत्साह

गिरिडीहः मारवाड़ी महिला समिति के 15 दिवसीय फोक नृत्य प्रशिक्षण के 14वें दिन गुरुवार को शहर के श्याम मंदिर में राजस्थान के पांरपरिक नृत्यों में महिलाओं और युवतियों ने पूरे उत्साह के साथ हिस्सा लिया। राजस्थान के उदयपुर से आई नृत्यांगना शकुंतला पवार के नेत्तृव में प्रतिभागियों ने कालबेलिया, भंवई, आगरी, फूलचरी, गौरबंद, ब्रज की होली समेत कई पांरपरिक नृत्य का प्रदर्शन किया। नृत्यांगना शकुंतला ने प्रतिभागियों के सिर पर एक साथ आधा दर्जन मटके रखकर नृत्य का प्रशिक्षण दिया, वहीं उन्होंने सिर पर आग से भरे मटका का भी रोमांचक नृत्य का प्रशिक्षण दिया। इस दौरान कविता राजगढ़िया, लक्ष्मी शर्मा, माही कुमारी समेत कई प्रतिभागियों ने प्रशिक्षण का लाभ लिया।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

कालबेलिया नृत्य की गाथा काफी पुरानी : नृत्यागंना शकुंतला

इधर प्रशिक्षण के दौरान प्रतिभागियों ने कहा कि राजस्थान के हर पांरपरिक नृत्य लोगों को मंत्रमुग्ध करने वाले है। खास तौर पर कालबेलिया जैसे नृत्यों की गाथा काफी पुरानी है। नृत्यागंना शकुंतला ने कहा कि राजस्थान के लोकनृत्य सिर्फ देखने के लिए नहीं है। बल्कि, इन लोकनृत्यों के माध्यम से शरीर का संतुलन भी बनता है। यह बेहद खास है। प्रशिक्षण को सफल बनाने में समिति की अध्यक्ष माया बसावतिया, अरुणा खंडेलवाल, सुमन गौरिसरिया, सुषमा जैन समेत अन्य ने महत्पूर्ण भूमिका निभाई।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….