बढ़ते साइबर क्राइम के खिलाफ हुआ सेमिनार का आयोजन
गिरिडीह झारखंड

बढ़ते साइबर क्राइम के खिलाफ हुआ सेमिनार का आयोजन

जिला विधिक सेवा प्राधिकार ने किया था आयोजन

गिरिडीह। जिला विधिक सेवा प्राधिकार व न्यायिक एकाडेमी की ओर से रविवार को साइबर अपराध को लेकर एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। नगर भवन में आयोजित इस सेमिनार में कई न्यायिक अधिकारी एवं पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम में साइबर अपराध से बचने और साइबर अपराधियों  के चाल से बैंक खाताधारकों को बचने के उपाय बताए गए। कार्यक्रम में पदाधिकारियों ने लोगों को जागरूक करते हुए साइबर अपराधियों को मात देने की बात कही। कार्यक्रम में हाई कोर्ट के जस्टिस अनंत विजय सिंह, न्यायिक एकाडेमी के निदेशक गौतम चैधरी, गिरिडीह प्रधान जिला एंव सत्र न्यायधीश राजेश कुमार वैश्य, सूबे के पुलिस महानिरीक्षक नवीन सिंह, एसपी सुरेन्द्र झा समेत अन्य न्यायिक और पुलिस अधिकारियों के साथ अधिवक्तागण व शहर के गणमान्य लोग शामिल हुए।

बढ़ते साइबर क्राइम के खिलाफ हुआ सेमिनार का आयोजन

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

साइबर अपराध के मुद्दे पर न्यायालय भी गंभीर : जस्टिस

कार्यक्रम की शुरुआत अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया। सेमिनार को संबोधित करते हुए हाईकोर्ट के जस्टिस अनंत विजय सिंह ने बढ़ते साइबर अपराध पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि साइबर अपराध बढ़ने के बाद न्यायालय भी इस मुद्दे पर गंभीर है। साइबर अपराधी फोन कर आसानी से भोले भाले बैंक खाताधारकों को बेवकूफ बना कर उनकी गाढ़ी कमाई लूट लेते हैं। उन्होंने कहा  साइबर अपराध को गंभीर समस्या बताते हुए अब नीचले स्तर के कोर्ट को भी निर्देश दिया गया है कि साइबर क्राइम के मामले में पुलिस त्वरित अनुसंधान कर चार्जशीट देती है, तो अपराधियों के जमानत पर गंभीरता से विचार करें। सेमिनार के दौरान न्यायिक एकाडेमी के निदेशक गौतम चौधरी ने कहा सबसे पहले इस अपराध को लेकर लोगों को जागरुक करने की जरुरत है। जानकारी के अभाव में ही लोग अज्ञात फोन करने वालों को ओटीपी नंबर के साथ पासवर्ड दे रहे है। जिसे उनके बैंक खातो से ठगी हो रही है। निदेशक ने यह भी बताया कि समय बदलने के साथ साइबर क्राइम के नए तरीके को अपराधियों ने इजाद किया।

ई-वायलेट और मनी ट्रांसर्फर के माध्यम से साइबर अपराध को दिया जा रहा है अंजाम : आईजी

कार्यक्रम में आईजी नवीन सिंह ने सेमिनार में प्रोजेक्टर के माध्यम से मौजूद लोगों को बताया कि अब साइबर क्राइम का स्वरुप एक जैसा नहीं रह गया है। बल्कि, ई-वायलेट और मनी ट्रांसर्फर के माध्यम से भी साइबर अपराध को अंजाम दिया जा रहा है। इस क्रम में आईजी सिंह ने कई ई-वाॅयलेट का जिक्र करते हुए कहा कि फिलहाल ऐसे ई-वाॅयलेट अपराध के उदाहरण है। वहीं एसपी सुरेन्द्र झा ने भी प्रोजेक्टर के जरिए साइबर क्राइम के कई पहलुओं पर चर्चा की। एसपी ने बताया कि गिरिडीह के साइबर सेल भी हाईटेक तरीके से ही हर केस का अनुसंधान करने में जुटी हुई है।लगातार जिला पुलिस प्रशासन की ओर से जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है ताकि लोग साइबर अपराध के प्रति जागरूक बने।

कई लोगों ने किया सेमिनार को संबोधित

सेमिनार को जिला एंव सत्र न्यायधीश राजेश कुमार वैश्य समेत अन्य लोगों ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में कुंटुब न्यायधीश सुरेश चन्द्र जायसवाल, अपर जिला एंव सत्र न्यायधीश रामबाबू गुप्ता के अलावे एसडीपीओ जीतवाहन उरांव, विनोद महतो, नीरज सिंह, राजीव कुमार, डीएसपी नवीन सिंह, संतोष मिश्रा, अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष दुर्गा प्रसाद पांडेय, अधिवक्ता विशाल कुमार, सुबोनील सांमतो, चैंबर आॅफ काॅमर्स के पदाधिकारी संजय डंगाईच, दिनेश खेतान समेत काफी संख्या में न्यायिक पदाधिकारी, अधिवक्ता मौजूद थे।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….