मेयर सुनील पासवान का जाति प्रमाण पत्र रद्द
गिरिडीह झारखंड टॉप-न्यूज़

मेयर सुनील पासवान का जाति प्रमाण पत्र रद्द

झामुमो ने चुनाव के दौरान जताया था जाति प्रमाण पत्र पर ऐतराज

गिरिडीह। नगर निगम के मेयर सुनील पासवान का जाति प्रमाण-पत्र रदद कर दी गई है। छानबीन समिति की रिपोर्ट के बाद आदिवासी कल्याण आयुक्त ने जाति प्रमाण पत्र रद्द कर शहर में सनसनी फैला दी है। विदित हो कि चुनाव में नामाकंन के दौरान ही झामुमो प्रत्याशी रही प्रमीला मेहरा ने सुनील पासवान के जाति प्रमाण-पत्र पर एतराज जताया था। जानकारी केे अनुसार 1950 के बाद झारखंड में आए हुए अनुसूचित जाति को आरक्षण का लाभ नही दिया जाता है। झामुमो ने इसी को आधार बनाया था।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

राज्य स्तरीय छानबीन समिति ने प्रमाण रद्द करने का दिया निर्देश

यहां काबिलेगौर है कि अपर मुख्य सचिव कार्मिक, प्रशासनिक सुधार तथा राजभाषा विभाग रांची के पत्रांक 1754 के कंडिका 19 में निर्देश दिया गया है कि राज्य स्तरीय छानबीन समिति के द्वारा यदि किसी जाति प्रमाण पत्र की वैधता के संबंध में कोई प्रतिकूल आदेश पारित किया जाता है तो संबंधित अंचल अधिकारी ऐसे जाति प्रमाण पत्र को रद्द कर इसकी सूचना आला अधिकारियों को देंगे। ज्ञापांक 2290 दिनांक 17. 08. 2019 द्वारा इस आशय का पत्र सीओ कार्यालय से निकाल दी गई है।

चुनाव आयोग से मांगा गया दिशा निर्देश

इस संबंध में डीसी राजेश कुमार पाठक ने कहा कि झारखंड में 1950 के बाद आए हुए अनुसूचित जाति को आरक्षण का लाभ देने का प्रावाधान नही है। इसी आधार पर मेयर का जाति प्रमाण पत्र रद्द कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग से मामले में मार्ग दर्शन मांगा जाएगा। दिशा निर्देश के बाद ही आगे की कार्रवाई की जायेगी।

करूंगा कानून का सम्मान: मेयर

अंचल कार्यालय से जाति प्रमाण पत्र रद्द किए जाने के सवाल पर मेयर सुनील पासवान ने कहा कि पत्र की जानकारी नही है। कहा कि मामला कोर्ट में चल रहा है। जब कोर्ट में मामला विचाराधीन है तो कोई पत्र कैसे जारी हो सकता है। पासवान ने कहा कि मामले में विशेषज्ञ से राय ली जाएगी। कहा कि कानून का हर हाल में पालन किया जाएगा।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….