मधुपुर महाविद्यालय के शिक्षक शिक्षकेत्तर कर्मियों ने लगाया काला बिल्ला

मधुपुर महाविद्यालय के शिक्षक शिक्षकेत्तर कर्मियों ने लगाया काला बिल्ला

सरकार के दमनकारी नीति का किया विरोध

मधुपुर। मधुपुर-शुक्रवार को मधुपुर महाविद्यालय मधुपुर के सभी शिक्षक शिक्षकेत्तर कर्मी राज्य सरकार की दमनकारी नीति एवं जुलाई माह के वेतन भुगतान में बेवजह देर होने के विरोध में काला बिल्ला लगाकर पठन-पाठन एवं गैर शैक्षणिक कार्य संपादित किया। शिक्षकों की मांग है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश से उन्ही शिक्षक एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारी का वेतन प्रभावित होगा जो नवअंगीभूत कॉलेज में कार्यरत हैं।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

नहीं मिल रहा सांतवें वेतनमान का लाभ

विदित हो कि झारखंड को छोड़कर देश के सभी राज्य एवं केंद्र शासीत प्रदेश में महाविद्यालय व विश्वविद्यालय शिक्षकों को सातवां वेतनमान का लाभ मिल रहा है। लेकिन झारखंड सरकार के उच्च शिक्षा के प्रति उदासीनता के कारण आज तक सातवें वेतनमान झारखंड में लागू नहीं किया गया है। जिससे इस राज्य के शिक्षक आत्महीनता से ग्रस्त हो रहे हैं। झारखंड ही एकमात्र ऐसा राज्य है, जहां के शिक्षकों की प्रोन्नति का लाभ वर्षो से लंबित है। 2008 में नियुक्त हुए विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय के शिक्षकों को पीएचडी इंक्रीमेंट का लाभ नहीं दिया जा रहा है। सरकार वेतन देने में आनाकानी कर रही है। कर्मचारी को भी सातवें  वेतनमान का लाभ यहां नहीं मिल रहा है।

10 अगस्त के बाद करेंगे विरोध प्रदर्शन

10 अगस्त तक जुलाई माह का वेतन विश्वविद्यालय द्वारा निर्गत नहीं किया गया तो महाविद्यालय के सभी शिक्षकेत्तर कर्मचारी पठन-पाठन परीक्षा का बहिष्कार करेंगे। काला बिल्ला लगाकर विरोध प्रदर्शन करने वालों में डॉ निखिल झा, डॉ भारती, डॉ राणा प्रताप सिंह, डॉक्टर रंजीत कुमार, डॉ भरत प्रसाद, गोपाल राय, दिगम्बर कुशाल सिंह, आशुतोष लाला, अवधेश नंदन सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….