आईएसआई कार्यालय में महिला कर्मचारी से दुष्कर्म के मामले में जांच शुरू

आईएसआई कार्यालय में महिला कर्मचारी से दुष्कर्म के मामले में जांच शुरू

पुलिस ने पीड़िता के आरोप को माना सही, स्थानीय कर्मचारियों को पाया बेगुनाह

गिरिडीह। भारतीय सांख्यिकी संस्थान के गिरिडीह की महिला रसोईया के साथ कोलकाता संस्थान के प्रशासनिक अधिकारी प्रोबीर भट्टाचार्या ने साल 2018 में दुष्कर्म का प्रयास किया था। दुष्कर्म के प्रयास से पहले ही पीड़िता के साथ आरोपी प्रोबिर ने छेड़खानी का भी प्रयास किया था। आरोपी प्रशासनिक पदाधिकारी को पीड़िता के साथ छेड़खानी करते हुए खुद गिरिडीह संस्थान में कार्यरत एक दुसरे कर्मी ने देख लिया था। यही नही रसोईया के साथ दुष्कर्म के प्रयास करने का आरोपी अधिकारी प्रोबीर भट्टाचार्य उसकी खराब आर्थिक स्थिति का फायदा उठाते हुए घटना का जिक्र करने पर नौकरी से हटा देने तक धमकी दिया था।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

 20 मार्च को हुआ था दुष्कर्म का प्रयास

पीड़िता द्वारा नगर थाना में केस दर्ज कराने के बाद नगर थाना पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेकर मामले की तफतीश में जूट गई। जांच के दौरान अनुसंधानकर्ता राधेश्याम पांडेय ने पाया कि लोकलिहाज के कारण पीड़िता चुप रही। लेकिन पीड़िता के साथ दुष्कर्म का प्रयास प्रोबीर भट्टाचार्य ने किया था। यह बयान गिरिडीह आईएसआई में कार्यरत एक दुसरे कर्मचारी ने दिया है। अनुसंधानकर्ता पांडेय ने अपने अनुसंधान में पाया कि एक साल पहले 14 जनवरी 2018 को कोलकाता आईएसआई के प्रशासनिक अधिकारी प्रोबीर भट्टाचार्य ने महिला रसोईया के साथ संस्थान के किचन में खाना बनाते वक्त उसके शरीर पर गंदी नीयत से हाथ फेरा था।

वहीं दुसरी बार तीन माह बाद 20 मार्च 2018 को संस्थान के गेस्ट हाउस से जब सभी बैठक के लिए संस्थान के कार्यालय में चले गए तो पीड़िता के अकेले होने का फायदा उठाते हुए उन्होंने रसोईया के साथ गेस्ट हाउस में दुष्कर्म करने का प्रयास किया।

पीड़िता ने पीएमओ और महिला आयोग के पास की थी शिकायत

दुष्कर्म का प्रयास का विरोध जब पीड़िता ने कीए तो कोलकाता के प्रशासनिक अधिकारी ने पीड़िता को घटना का जिक्र किसी के पास नहीं करने की धमकी देते हुए नौकरी से निकालने की बात कही। लिहाजा, आरोपी अधिकारी की धमकी के कारण पीड़िता कुछ दिन चुप रही। लेकिन बाद में इस बात की शिकायत पीड़िता ने प्रधानमंत्री कार्यालय पीएमओ में करने के साथ ही राष्ट्रीय महिला आयोग के पास भी पत्राचार कर किया था। दोनों को पत्राचार किए जाने के कारण ही आयोग व पीएमओ कार्यालय ने आरोपी अधिकारी पर कार्रवाई करते हुए कोलकाता कार्यालय से तबादला कर दिया।

जांच में आईएसआई प्रभारी सहित अन्य कर्मी पाये गये निर्दोश

कोलकाता आईएसआई के आरोपी प्रशासनिक अधिकारी के साथ पीड़िता ने गिरिडीह आईएसआई के प्रभारी डाॅ हरिचचरण बेहरा समेत गिरिडीह कार्यालय के प्रदीप भट्टाचार्य, अशोक कुमार, आसिफ हुसैन, शमसुल हौदा पर भी महिला आयोग और पीएमओ को पत्राचार कर मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाया था। हालांकि जांच के दौरान पीड़िता के साथ दुष्कर्म का प्रयास सिर्फ प्रोबिर भट्टाचार्य द्वारा किया गया था। जबकि नगर थाना पुलिस ने आईएसआई गिरिडीह संस्थान के प्रभारी डाॅ हरिचरण बेहरा समेत पांच कर्मियों पर लगाये गये आरोप को बेबूनियाद पाया है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….

indian statical isntitute2