बच्चों की सुरक्षा को लेकर कार्यशाला का आयोजन, अधिकारियों को दी गई कई जानकारी

बच्चों की सुरक्षा को लेकर कार्यशाला का आयोजन, अधिकारियों को दी गई कई जानकारी

पुलिस व चाइल्डलाइन ने संयुक्त रूप से की कार्यशाला आयोजित

बोकारो : बालसखा, पुलिस प्रशासन बोकारो एवं चाइल्डलाइन बोकारो के सहयोग से बच्चों की सुरक्षा को लेकर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन हुआ । बोकारो पुलिस अधीक्षक पी मुरूगन के अध्यक्षता में पुलिस अधीक्षक सभागार में हुई इस कार्यशाला में डीएसपी हेड क्वार्टर सतीश चंद्र झा, डीएसपी सिटी ज्ञान रंजन, एसडीपीओ बहामन टुटी, जिला पुलिस अधीक्षक सलाहकार संजय कुमार, बालसखा के पियूष गुप्ता एवं राहुल कुमार ,चाइल्डलाइन बोकारो निदेशक उमेश तिवारी, चाइल्डलाइन बोकारो समन्वयक शिव पांडे के साथ जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी अनीता झा, पीओआईसी संध्या कुमारी एवं एलपीओ मोहम्मद रसूल अहमद ,जिला बाल कल्याण समिति अध्यक्ष डॉ विनय सिंह, सदस्य प्रीति कुमारी एवं संध्या सिन्हा मौजूद थी ।

बच्चों के मामलों में अधिक संवेदनशील बनें अधिकारी : एसपी

बच्चों के मामलों में अधिक संवेदनशील बनें अधिकारी : एसपी

कार्यशाला में बोलते हुए बोकारो पुलिस अधीक्षक पी मुरुगन ने कहा कि इस कार्यशाला का खासा महत्व है । उन्होंने कहा कि बच्चों के मामले में पुलिस अधिकारियों को काफी अधिक संवेदनशील होने की आवश्यकता है और इसके लिए ज़रूरी है कि वे बच्चों से संबंधित विभिन्न कानूनों की जानकारी रखें और इसीलिए इस कार्यशाला का आयोजन किया गया है । उन्होंने आए हुए सभी प्रशिक्षकों एवं प्रशिक्षुओं को धन्यवाद दिया और भरोसा जताया कि कार्यशाला अपने उद्देश्यों में सफल रहेगी ।

डीएसपी हेड क्वार्टर सतीश चंद्र झा ने विभिन्न न्याय संगत नियमों की जानकारी दी और इस कार्यशाला से होने वाले  लाभ पर प्रकाश डाला । बालसखा के पियूष सेनगुप्ता ने किशोर न्याय अधिनियम 2015 और पॉक्सो एक्ट के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने यहां बताया कि किस तरह बच्चों की पहचान की जा सकती है एवं बच्चों के साथ किस प्रकार का व्यवहार पुलिस पदाधिकारियों को करना चाहिए जिससे उनपर कोई विपरीत प्रभाव ना पड़े ।

 

बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष डॉ विनय सिंह ने सीडब्ल्यूसी एवं डीसीपीओ इकाई के संबंध में बच्चों को लेकर सुरक्षा हेतु तत्पर रहने से संबंधित नियमों की जानकारी दी । उपस्थित बाल संरक्षण पदाधिकारी ने किशोर न्याय अधिनियम एवं जिले में बाल संरक्षण को लेकर विभाग की तत्परता से संबंधित बातों को साझा किया।

चाइल्ड लाइन के डायरेक्टर उमेश तिवारी ने चाइल्ड लाइन के बारे में जानकारी दी । उन्होंने बताया कि चाइल्डलाइन 1098 भारत में 1996 से प्रारंभ है, परंतु बोकारो में पिछले डेढ़ साल पहले इसकी शुरुआत की गई है । उन्होंने बताया कि यहां दो सब सेंटर हैं, एक बेरमो आस्था रिहैबिलिटेशन सेंटर जो सहयोगिनी संस्था के माध्यम से संचालित है  जबकि  सामाजिक परिवर्तन संस्थान चाइल्डलाइन जोधाडीह मोड़ में अवस्थित है । साथ ही बताया कि 1098 में अगर यदि कॉल किया जाए 24 घंटे के अंदर सेवा उपलब्ध होती है, और हमें सबको यह कहना एवं करना भी चाहिए । जब भी कभी बच्चों से संबंधित कोई अपराध होता दिखे तो तुरंत 1098 पर संपर्क करें इसकी सूचना दें।

उपस्थित पुलिस पदाधिकारियों के समक्ष विभिन्न सर्कुलर के द्वारा वस्तुस्थिति को समझाने की चेष्टा की गई एवं बताया गया कि किस प्रकार पुलिस प्रशासन बच्चों से संबंधित अपराधों में चाइल्ड लाइन जिला बाल कल्याण समिति एवं जिला बाल संरक्षण इकाई को सहायता प्रदान कर सकती है । इस कार्यक्रम में चाइल्डलाइन बोकारो सब सेंटर सहयोगिनी से गौतम सागर एवं मंजू कुमारी चाइल्डलाइन, बोकारो सब सेंटर आस्था से अभिषेक कुमार, सहयोग विलेज चास के अधीक्षक ओम प्रकाश एवं विभिन्न थानों से आए थाना प्रभारी उपस्थित हुए।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….