मोदी पार्ट-2 में गिरिडीह शहर को जल्द मिल सकती है नेशनल हाईवे की सौगात

मोदी पार्ट-2 में गिरिडीह शहर को जल्द मिल सकती है नेशनल हाईवे की सौगात

पथ प्रमंडल ने भेजा प्रस्ताव, डीपीआर बनाने का चल रहा है कार्य

बगोदर-बरमसिया से होते हुए कोवाड़ वाया पचंबा पहले चरण में, दूसरे चरण में बड़ा चौक से पचंबा तक होगा

 

मनोज कुमार पिंटू

गिरिडीह। मोदी सरकार के पार्ट-2 के कार्यकाल में उम्मीद है कि गिरिडीह शहर को जल्द ही नए नेशनल हाईवे की सौगात मिल सकती है। शहर को मिलने वाला प्रस्तावित नेशनल हाईवे चार लेन का होगा। इसकी पुष्टि पथ प्रमंडल गिरिडीह के कार्यपालक अभियंता जयराम ने भी की है। हालांकि शहर का यह नया नेशनल हाईवे कितने की लागत से तैयार होगा, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है, क्योंकि हाईवे निर्माण का प्रस्ताव गिरिडीह पथ प्रमंडल ने कुछ महीने पहले ही स्टेट हाईवे अथारिटी और सरकार को वित्तीय सहयोग करने वाली एजेंसी एशियन डेवलमेंट बैंक एडीबी को भेजा गया था। जिसकी स्वीकृति भी जल्द मिलने की उम्मीद लगाई जा रही है। स्वीकृति मिलते ही हाईवे निर्माण की प्रकिया को तेज किया जाएगा।

 

स्टेट हाईवे अथारिटी डीपीआर डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट कर रही है तैयार

 

स्टेट हाईवे अथारिटी डीपीआर डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर रही है। डीपीआर को तैयार करने में चार माह का वक्त लग सकता है। डीपीआर तैयार होने के बाद तस्वीर साफ होगी कि शहर का यह नेशनल हाईवे कितने की लागत से बनाया जाएगा। सूत्रों की मानें तो हाईवे निर्माण की लागत करोड़ो की राशि से किया जाना है। पथ प्रमंडल सूत्रों के अनुसार प्रस्तावित हाईवे निर्माण के लिए अथारिटी के पास 80 प्रतिशत जमीन पहले से मौजूद है। जिसमें कुछ पर अस्थायी अतिक्रमण की बात सामने आ रही है, जिसे हटाना कोई मुश्किल नहीं। पथ प्रमंडल के गिरिडीह कार्यपालक अभियंता जयराम और हाईवे अथारिटी के अधीक्षक अभियंता ने शुक्रवार को प्रस्तावित हाईवे निर्माण की जमीन का पूरा सर्वे किया। सर्वे के दौरान साफ हो गया कि हाईव निर्माण के लिए जितनी जमीन की जरुरत पड़ेगी, वह मौजूद है।

 

दो चरणों में होगा सड़क निर्माण कार्य

 

शहर को मिलने वाला प्रस्तावित इस नए नेशनल हाईवे का निर्माण दो चरणों में किया जाएगा। प्रस्तावित हाईवे की कुल लंबाई 107 किमी बताया जा रहा है। दो चरणों में होने वाले हाईवे निर्माण के पहले चरण में बगोदर से बरमसिया होते हुए कोवाड़ और इसके बाद कोवाड़ से पचंबा पहला चरण शामिल है। जबकि दूसरे चरण में शहर के बड़ा चौक  से लेकर पचंबा शामिल है। बड़ा चौक से हो कर प्रस्तावित हाईवे बस पड़ाव से गुजरेगा, और बस पड़ाव से होते हुए हाईवे पचंबा से कनेक्ट होगा।

 

शहरी सड़क पर बड़े वाहनों का बोझ होगा कम

 

इधर कार्यपालक अभियंता जयराम ने बताया कि प्रस्तावित चार लेन हाईवे के लिए जो सर्वे किया गया है, उसके अनुसार पर्याप्त जमीन मौजूद है। सर्वे के दौरान कुछ स्थानों को अस्थायी अतिक्रमण के दायरे में पाया गया। जिसमें सरकार-गैर सरकारी दोनों प्रकार के अतिक्रमण है। जिसे अतिक्रमणमुक्त करना कोई समस्या नहीं है। हाईवे निर्माण के बाद शहर में पहले से प्रस्तावित बाईपास से कनेक्ट होने के बाद शहर से वाहनों का बोझ कम होना तय है।

 

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर
ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….