नगर निगम द्वारा मंगरोडीह में सेप्टेज टैंक निर्माण कार्य का ग्रामीणों ने किया विरोध

नगर निगम द्वारा मंगरोडीह में सेप्टेज टैंक निर्माण कार्य का ग्रामीणों ने किया विरोध

स्टोर रूम के दीवार को किया क्षतिग्रस्त

गिरिडीह। सदर प्रखंड के मंगरोडीह में नगर निगम के द्वारा 59 करोड़ की लागत से सेप्टेज टैंक निर्माण को लेकर रविवार को पहुंचे जुडको के कर्मियों को स्थानीय लोगों का विरोध झेलना पड़ा। जब कर्मी जेसीबी मशीन लेकर योजना स्थल पर ट्रैंच काटने के लिए पहुंचे, तो एक साथ सैकड़ो की संख्या में मंगरोडीह, छाताटांड, हरसिंगरायडीह और जंबाद के ग्रामीण पहुंचे गए, और जमकर हंगामा किया। जिसके बाद जेसीबी से ट्रैंच काट रहे कर्मियों ने ग्रामीणों के आक्रोश के कारण खुद काम रोक दिया। यही नहीं ग्रामीणों ने योजना स्थल पर बने स्टोर रुम के दीवारों को भी गिरा दिया।

ग्रामीणों के इस आक्रोश के बाद जुडको के कर्मियों को भयवश काम रोकना पड़ा। हालांकि आक्रोशित ग्रामीणों ने जुडकों के कर्मियों से साफ तौर पर कहा कि किसी ग्रामीण का कर्मियों से कोई गुस्सा नहीं है। सिर्फ नगर निगम द्वारा कराएं जा रहे कार्य को लेकर आक्रोश है। इसलिए मंगरोडीह में किसी सूरत में सेप्टेज टैंक का निर्माण नहीं होने दिया जाएगा।

सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर

नगर निगम ने ग्रामीणों को दिया धोखा

नगर निगम द्वारा मंगरोडीह में सेप्टेज टैंक निर्माण कार्य का ग्रामीणों ने किया विरोध

इधर ग्रामीणों के विरोध प्रदर्शन का नेत्तृव कर रहे भाजपा नेता निर्भय सिंह व स्थानीय गोपाल सिंह ने नगर निगम पर झूठे वादे कर सेप्टेज निर्माण का आरोप लगाते हुए बताया कि पहले मंगरोडीह समेत आधा दर्जन गांव के ग्रामीणों को नगर निगम ने झांसा दिया कि इलाके में नर्सिंग काॅलेज खुलना है। जब नर्सिंग काॅलेज का प्रस्ताव खत्म हुआ, तो बताया गया कि कोल्ड स्टोरेज खोलना है इसके बाद विवाह भवन निर्माण कराने की बात कही गई। लेकिन नगर निगम से मंगरोडीह में प्रस्तावित योजना की जानकारी लेने पर पता चला कि मंगरोडीह में सेप्टेज का निर्माण कराया जाना है। केन्द्र सरकार के अमृत योजना की राशि 59 करोड़ के लागत से सेप्टेज का निर्माण होना है।

अच्छे काम नहीं तो सेप्टेज निर्माण नहीं

योजना स्थल पर मंगरोडीह समेत आधा दर्जन गांव के पहुंचे ग्रामीणों ने यह भी कहा कि जब इलाके में कोई अच्छा कार्य हो नहीं सकता है तो फिर शहर के शौचालय के सेप्टेज की गंदगी मंगरोडीह समेत आधा दर्जन गांव के लोग क्यों सहें? आक्रोशित ग्रामीणों ने हंगामे के दौरान कहा कि किसी सूरत में मंगरोडीह में निर्माण नहीं होने दिया जाएगा। विरोध प्रदर्शन के दौरान नवीन सिंह, राजेन्द्र प्रसाद सिंह, प्रेम तूरी, मोहन दास, रवीन्द्र राय, जागेशवर सिंह, राजू दास समेत काफी संख्या में आधा दर्जन गांव के ग्रामीण मौजूद थे।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….