रांची में आयोजित ओबीसी सम्मेलन में उठी 52 फिसदी आरक्षण की मांग

रांची में आयोजित ओबीसी सम्मेलन में उठी 52 फिसदी आरक्षण की मांग

आरक्षण के लिए सड़क से लेकर सदन तक होगा आंदोलन: राजेश गुप्ता

रांची। राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा की प्रदेश स्तरीय सम्मेलन पटेल भवन में आयोजित हुई। सम्मेलन में मुख्य रूप से राज्य में ओबीसी समुदाय को आबादी के अनुपात में 52 फिसदी आरक्षण दिलाने के लिए राज्य स्तरीय बड़ा आंदोलन करने का निर्णय लिया गया। आरक्षण बढ़ाओ, न्याय दो यात्रा निकाली जाएगी। हस्ताक्षर अभियान भी चलाया जाएगा। सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुमार गुप्ता ने कहा कि एकिकृत बिहार में ओबीसी समुदाय को 27 फिसदी आरक्षण दिया गया है, लेकिन झारखण्ड में सिर्फ 14 फिसदी आरक्षण दिया जा रहा है। जिससे ओबीसी समुदाय को काफी नूकसान हो रहा है।

सीधी नजर अब देखें सिटी केबल के चैनल नम्बर 277 पर

आबादी के अनुपात में मिले आरक्षण का लाभ

श्री गुप्ता ने कहा कि दस वर्षों में ओबीसी नियुक्ति में रोस्टर घोटाला भी हुआ है। मुख्यमंत्री ने सर्वेक्षण कराकर आबादी के अनुपात में आरक्षण देने की बात कही थी। लेकिन कई महिने बीत जाने के बाद भी कुछ नहीं हुआ। कुछ विधायकों को छोड़ ज्यादातर इस मुद्वे पर गंभीर नहीं हैं। उर्मिला यादव ने कहा कि ओबीसी समुदाय की हालत दिन प्रतिदिन खराब हो रही है। ओबीसी आरक्षण 14 फिसदी है। लेकिन रांची जिले में सिर्फ दो फिसदी, साहेबगंज, पाकुड़ व सरायकेला-खरसावां जिले में 7 फिसदी, गोड्डा व जामतारा जिले में 9 फिसदी, दुमका, गुमला, सिमडेगा, लोहरदग्गा, खुंटी, लातेहार व पश्चिमी सिंहभूम में शून्य फिसदी है।

कई लोगों ने किया संबोधित

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सुबेदार एसएन सिंह ने कहा कि देश में जाति आधारित जनगणना होनी चाहिए। वहीं शशिभूषण गुप्ता ने निजी क्षेत्र में भी ओबीसी को प्रतिनिधित्व देने की मांग रखी। कार्यक्रम में भगवान केसरी, प्रेमसागर केसरी, प्रेम साहू, संजय चैधरी, प्रवीण कुमार, कृष्णा यादव, रंजय कुमार, सत्येन्द्र कुमार, सीताराम केसरी, अशोक महतो, मो0 आसिफ सहित काफी संख्या में ओबिसी से जुड़े लोगों ने हिस्सा लिया।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….