महावीर जयंती पर इसरी में निकाली गई प्रभात फेरी व भव्य शोभा यात्रा

महावीर जयंती पर इसरी में निकाली गई प्रभात फेरी व भव्य शोभा यात्रा
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 9
  •  
  •  
    9
    Shares

जैन समाज के लोगों ने पूरे उत्साह के साथ लिया हिस्सा

 

डुमरी (गिरिडीह)। विश्व में अहिसा का संदेश देने वाले जैन धर्म के प्रवर्तक 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी की 2618 वीं जयंती पर बुधवार को जैन समाज द्वारा धूमधाम से प्रभात फेरी व शोभायात्रा निकाली गई। इसरी बाजार में सुबह से ही कार्यक्रमों की झड़ी लग गई थी, जो देर रात तक जारी थी । पीएनडी जैन उच्च विद्यालय इसरी बाजार, जैन मध्य विद्यालय इसरी बाजार एवं मेमोरियल स्कूल इसरी बाजार के छात्र-छात्राओं ने सुबह प्रभात फेरी निकालकर अंहिसा परमो धर्म: , महावीर का संदेश जियो और जीने दो, सादा जीवन उच्च विचार, महावीर स्वामी की जय सहित भगवान महावीर के संदेशों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए नारे लगाए। इस दौरान सोम जैन के द्वारा भंडारे का आयोजन करते हुए बच्चों के बीच प्रसाद का वितरण किया गया।

 

शोभा यात्रा में रथ पर विराजमान थे भगवान महावीर

महावीर जयंती पर इसरी में निकाली गई प्रभात फेरी व भव्य शोभा यात्रा

 

जैन समाज के लोगों द्वारा दोपहर को भव्य शोभायात्रा निकाली गई । शोभायात्रा में भगवान महावीर की मूर्ति रथ पर विराजमान थी  । स्थानीय जैन समाज के युवक-युवती, महिला-पुरुष सहित देश के विभिन्न राज्यों से आए श्रद्धालुओं ने भी इसमें भाग लिया। कई भक्त भगवान को चंवर डोला रहे थे तो कई नृत्य व भजन करते हुए रथ खींच रहे थे। रथ यात्रा में मयंक जैन, भगवान कुबेर, सौरभ जैन, सुशील कुमार जैन, सारथी सुनील कुमार जैन, अशोक जैन, विनय जैन, सोम कुमार जैन इन्द्र बने थे। संगीता जैन हाथों में मंगल कलश लिए हुई थी।

 

महावीर सिर्फ जैन के ही नहीं बल्कि सभी लोगों के थे प्रेरणास्त्रोत

 

शोभायात्रा में अहिंसा से संबंधित बैनर व धर्म ध्वज लहरा रहे थे। यह बीसपंथी कोठी से चलकर स्टेशन रोड होते हुए जयश्री पेट्रोल पंप तक पहुंची। नगर भ्रमण करने के बाद शोभायात्रा वापस मंदिर पहुंची। दिगंबर जैन समाज इसरी बाजार के अध्यक्ष प्रिये जिग्नेश जैन ने कहा कि जैन समाज के चैबीस तीर्थकरों में से महावीर अंतिम तीर्थकर माने जाते हैं। इस वजह से इन्हें मतावलंबी भी कहा जाता है। भगवान महावीर सिर्फ जैन धर्म में ही नहीं बल्कि सभी लोगों के लिए प्रेरणास्रोत रहे हैं। इनके अनमोल विचार आज भी प्रासंगिक हैं, जो सत्य और अंहिसा का मार्ग दिखाते हैं। इस वजह से भगवान महावीर की जयंती बेहद खास मानी जाती है।

 

समाज के लोग थे शामिल

 

इस दौरान समाज की ओर से संध्या में जैन तेरहपंथी कोठी में सांस्कृतिक एवं भजन व सामूहिक भोज कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। समाज के अध्यक्ष प्रिये जिनेश जैन, मंत्री विनोद जैन, प्रदीप जैन, अशोक जैन, सुनील कुमार जैन, भैयालाल जैन, प्रमोद कुमार, विवेक जैन, विनय जैन, सुनील जैन, देवेश कुमार, कृष्ण कुमार सिंह, श्याम कुमार सिंह, विनोद जैन, रमेश जैन, आलोक जैन, आशीष जैन, पारस जैन, अभय जैन, संजीव जैन, प्रतेश जैन, नीतू जैन, संगीता जैन, सीमा जैन, नेहा जैन, रश्मी जैन, नीता जैन, अनिता जैन, मीना जैन, पूजा जैन, सोम जैन आदि शामिल थे।