अहिंसा परमो धर्म: का संदेश देने वाले भगवान महावीर के जन्मकल्याणक महोत्सव पर निकली भव्य शोभा यात्रा

अहिंसा परमो धर्म: का संदेश देने वाले भगवान महावीर के जन्मकल्याणक महोत्सव पर निकली भव्य शोभा यात्रा
  • 8
    Shares

जियो और जीने दो के जयकारों के साथ शहर में जैन समाज के श्रद्धालुओं ने निकाली यात्रा

शोभा यात्रा के बाद जैन मंदिर में हुए कई अनुष्ठान, कई श्रद्धालुओं ने लिया हिस्सा

गिरिडीहः जनमानस को अहिंसा का पाठ पढ़ाने वाले जैन समाज के 24वें तीर्थंकर और त्याग व तपस्या की प्रतिमूर्ति भगवान महावीर के 2618वां जन्मकल्याणक महोत्सव के मौके पर बुधवार को शहर के बड़ा चौक स्थित जैन मंदिर में कई अनुष्ठान किए गए, जिसमें काफी संख्या में समाज की महिलाओं के साथ युवाओं और गणमान्य लोगों की भीड़ जुटी।

वैसे जैन मंदिर से पहले शहर में भव्य शोभा यात्रा निकाली गई। शोभा यात्रा में ही काफी संख्या में समाज की महिलाओं के अलावा युवक-युवतियां भी शामिल हुईं। शोभा यात्रा में महिलाएं व युवतियां भगवान महावीर का दिव्य संदेश जिओ व जीने दो, भगवान महावीर का जयकारा लगाते हुए चल रही थी। वहीं शोभा यात्रा में एक वाहन में भगवान महावीर की तस्वीर सजी थी। जबकि दो घोड़ो के एक रथ में भगवान महावीर की मूर्ति को सजाया गया था। जो बेहद आकर्षक नजर आ रही थी। रथ में मौजूद एक श्रद्धालु भगवान महावीर की मूर्ति को थामे थे।

कई चौक चौराहों से होकर गुजरी शोभा यात्रा

अहिंसा परमो धर्म: का संदेश देने वाले भगवान महावीर के जन्मकल्याणक महोत्सव पर निकली भव्य शोभा यात्रा

इस बीच जैन मंदिर से निकली शोभा यात्रा गद्दी मुहल्ला होते शिवमुहल्ला पहुंची। जहां मारवाड़ी युवा मंच के सदस्य अमित बाछुका, राकेश मोदी, दिनेश खेतान, मुकेश जालान समेत अन्य सदस्यों द्वारा शोभा यात्रा में शामिल श्रद्धालुओं को ठंडा पेयजल के साथ शर्बत पिलाया गया। वहीं मकतपुर रोड में ही जैन समाज के वरिष्ठ पदाधिकारी अशोक जैन व उनके परिवार की ओर से भी आवास के समीप शोभा यात्रा में शामिल भक्तों के बीच लस्सी के साथ पेयजल का वितरण किया गया। इधर शहर के कई चौक-चौराहों से गुजरते हुए शोभा यात्रा वापस जैन मंदिर पहुंच कर समाप्त हुई।

जहां वरिष्ठ पदाधिकारी अशोक जैन, अंकित जैन, भरत जैन, विनोद जैन, महेन्द्र सेटृठी समेत अन्य सदस्यों ने मिलकर भगवान महावीर की पूजा-अर्चना की। मंदिर परिसर में बने पांडुक शिला पर भगवान महावीर को स्थापित कर मौके पर विश्व शांति का जाप करने के साथ शांति धारा का भी पाठ किया गया। श्रद्धालु गेरुवा वस्त्र धारण कर भगवान महावीर की पूजा-अर्चना में शामिल हुए थे। पूजा-अर्चना के क्रम में समाज की महिलाएं नमोकार मंत्र का जाप करने के साथ भजन-कीर्तन भी करती दिखीं। इधर जैन मंदिर में हुए अनुष्ठानों से माहौल भी भक्तिमय रहा।

जयंती को सफल बनाने में अजय जैन, अविनाश सेटृठी, धीरज जैन, राकेश जैन, ज्ञानचंद जैन, बंटी जैन, श्रेंयाश जैन, महेश जैन, श्रीपाल जैन समेत महिला समाज से भंवरी देवी जैन, अनिता जैन, सुषमा जैन, मंजू जैन, शशि जैन, राजश्री जैन, हेमा जैन, विनीता जैन ने महत्पूर्ण भूमिका निभाई। जबकि जंयती समारोह में काफी संख्या में समाज के श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया।

 

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….