नक्सलियों के मंसूबों पर पानी फेर दिया जांबाज़ जवानों ने, ड्यूटी निभाते शहीद हुआ एक जवान

नक्सलियों के मंसूबों पर पानी फेर दिया जांबाज़ जवानों ने, ड्यूटी निभाते शहीद हुआ एक जवान
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 2
  •  
  •  
    2
    Shares

असम का रहने वाला था सीआरपीएफ 7 बटालियन का शहीद जवान

गिरिडीह(देवरी)। गिरिडीह के सीआरपीएफ 7वीं बटालियन के जाबांज जवानों ने बिहार के जमुई की सीमा में प्रवेश करने का प्रयास कर रहे नक्सली दस्ते के तीन नक्सलियों को मुठभेड़ में मार गिराया। हालांकि मुठभेड़ के दौरान सीआरपीएफ को भी नुकसान उठाना पड़ा। जिसमें 7वीं बटालियन का एक जवान विश्वजीत चौहान नक्सलियों की गोली लगने से शहीद हो गया। 35 वर्षीय शहीद जवान विश्वजीत असम का रहने वाला था। शहीद जवान विश्वजीत के शव को पहले देवरी सीआरपीएफ कैंप लाया गया। जहां देवरी सीआरपीएफ कैंप में श्रद्धाजंलि देने के बाद चौपर से रांची भेज दिया गया।

 

भेलवाघाटी के भतुआपड़ा के रास्ते जमुई प्रवेश कर रहे थे हार्डकोर नक्सली

 

सोमवार की सुबह करीब सात बजे सीआरपीएफ और नक्सलियों के बीच भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के भतुआपडा जंगल में मुठभेड़ हुई। घटनास्थल भतुआपडा भेलवाघाटी से करीब 5 किमी दूर था। मुठभेड़ के दौरान दोनों ओर से करीब 50 से 60 रांउड गोली फायरिंग हुई। सीआरपीएफ को भारी पड़ता देख तीनों ने भागने का प्रयास किया। लेकिन भागने के क्रम में जवानों ने तीनों माओवादियों को मार गिराया। जानकारी के अनुसार तीनों नक्सली एक बाईक पर सवार हो कर भतुआपड़ा के जंगल इलाके से जमुई प्रवेश कर रहे थे। इसी दौरान सीआरपीएफ जवानों व नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हो गई।

 

सिद्धु कोड़ा दस्ते के सदस्य थे नक्सली

 

मारे गए तीनों माओवादी के पास से एक हीरो पेशन प्रो बाईक के साथ एक एके 47 राईफल, तीन पाईप बम और आईईडी विस्फोटक तैयार करने का सामान भी बरामद हुआ है। मारे गए तीन नक्सलियों में एक नक्सली के शरीर में पिट्ठु बैग बंधा हुआ था। फिलहाल मारे गए तीनों नक्सलियों की पहचान समाचार लिखे जाने तक नहीं हो पाई थी। लेकिन पुलिस सूत्रों की मानें तो तीनों

 

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….