भाजपा विधायकों की अनुशंसा पर कटा गिरिडीह व कोडरमा सांसद का टिकट !
गिरिडीह झारखंड टॉप-न्यूज़ राजनीति

भाजपा विधायकों की अनुशंसा पर कटा गिरिडीह व कोडरमा सांसद का टिकट !

  • 369
    Shares

विस चुनाव में दिखेगा लोस टिकट कटने का साइड इफेक्ट

रिपोर्ट : अभय वर्मा

गिरिडीह। लोकसभा चुनाव के दरम्यान विधानसभा चुनाव की चर्चा थोड़ी अटपटी लगती है, पर छः माह बाद होने वाली विस चुनाव की पटकथा अभी से लिखी जा रही है। यह तय माना जा रहा है कि रवीन्द्र द्वय के रडार पर गिरिडीह सहित कोडरमा जिले के विधायक हैं। लोस चुनाव के क्रम में तेजी से बदली राजनीतिक फिजां ने विस चुनाव का गणित बिगाड़ दिया है। सूत्र की मानें तो पूर्व में जो जीत की व्यूहरचना तैयार करते थे, भविष्य में हार की पटकथा लिखेंगे। इस बात को लेकर भाजपा के अंदरखाने में हलचल मची हुई है। संसदीय चुनाव में टिकट से वंचित हुए गिरिडीह के सांसद रवीन्द्र पांडेय ने तो अलग राह की तलाश में निकल पड़े हैं, पर कोडरमा सांसद रवीन्द्र राय चुपचाप घटनाक्रम पर निगाह रखे हुए हैं। पार्टी सूत्रों की मानें तो राय की चुप्पी तुफान आने से पूर्व की है।

इसे भी पढ़ें-भाजपा और गठबंधन के उम्मीदवारों ने कोडरमा की जनता को ठगा है: राजकुमार यादव

रवीन्द्र द्वय के रडार पर हैं पार्टी विधायक

भाजपा के भरोसेमंद सूत्र की मानें तो गिरिडीह व कोडरमा सीट पर रवीन्द्र पांडेय व रवीन्द्र राय की टिकट कटने में भाजपा विधायकों की भी कारगर भूमिका रही है। सूत्र की मानें तो पार्टी आलाकमान ने टिकट से वंचित करने से पूर्व जिले के विधायकों से अनुशंसा पत्र लिखवाया कि चुनाव में दोनों प्रत्याशियों की उम्मीदवारी हार का कारण बन सकती है। गिरिडीह सांसद को गठबंधन की बली चढ़ा दी गई तो कोडरमा सांसद राय की जगह पूर्व में पार्टी को जमकर कोसने वाली को टिकट थमा दिया गया। अब चुनावी मैदान में दोनों कितने कारगर साबित होते हैं, यह भविष्य बताएगा। दबाव में विधायक द्वारा की गई अनुशंसा अब उनके गले की फांस बनने वाली है। विदित हो कि भाजपा के चार विधायक में से तीन की जीत में रवीन्द्र द्वय की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

वोट मैनेज करने से लेकर अपने संसाधन तक से मदद की, पर सूत्र की मानें तो दगा से आहत सांसद द्वय इनकी चुनावी नैया डूबोने में भी महती भूमिका निभा सकते हैं। विदित हो कि रवीन्द्र द्वय का गिरिडीह व कोडरमा संसदीय क्षेत्र में खासा प्रभाव है और विस चुनाव में जीती हुई बाजी हार में कैसे तब्दील की जा सकती है, यह दोनों को मालूम है। फिलहाल संसदीय चुनाव में सभी व्यस्त हैं और आलाकमान द्वारा दिए गए टारगेट को हासिल करने की जदोजहद में लगे हुए हैं।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….