कोडरमा में रवीन्द्र राय के टिकट कटने से भूमिहार समाज में मायूसी
गिरिडीह झारखंड राजनीति

कोडरमा में रवीन्द्र राय के टिकट कटने से भूमिहार समाज में मायूसी

  • 10
    Shares

छिटक सकता है भाजपा का आधार वोट

अन्नपूर्णा देवी को टिकट मिलने से सांसद विरोधी कार्यकर्ताओं में उत्साह

रिपोर्ट: मनोज कुमार पिंटू

गिरिडीह। कोडरमा सांसद डा रवीन्द्र राय का भाजपा से टिकट कटने के बाद कोडरमा का जातीय समीकरण बदलना लगभग तय है। भाजपा आलाकमान के इस कदम से भूमिहार समाज का मूड बदलता भी दिख रहा है। इसकी बानगी भी दिखी, जब सप्ताह दिनों पहले टिकट कटने की चर्चा शुरू हुई, तो कांग्रेस नेता उपेन्द्र सिंह के घर पर झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मंराडी के पक्ष में महागठबंधन के नेताओं का जुटान हुआ। जिसमें काफी संख्या में गठबंधन के कार्यकर्ता मौजूद थे। बैठक में भूमिहार समाज के चंद पदाधिकारी भी मौजूद थे। लिहाजा, कुछ हद तक तस्वीर साफ है कि टिकट कटने के बाद भूमिहार समाज के एक तबके का समर्थन अब महागठबंधन के कोडरमा प्रत्याशी बाबूलाल मंराडी को मिलने की संभावना बढ़ गई है।

इसे भी पढ़ें-सनसनी : गिरिडीह जेल में कैदी ने फांसी लगाकर की खुदकुशी

समाज विशेष का सांसद होने का आरोप लगता रहा रवीन्द्र राय पर

पार्टी के कई नेताओं का दबे स्वर में कहना है कि पांच साल के कार्यकाल में मौजूदा सांसद राय ने सिर्फ जातीय वोट बैंक को गोलबंद करने में ही दिलचस्पी दिखाई और उनका प्रदर्शन सही नहीं रहा। यह भाजपा का सर्वे रिपोर्ट से भी साफ साबित कर रहा है। टिकट कटने के बाद कोडरमा के सीटिंग प्रत्याशी डा राय का राजनीतिक भविष्य पर सवालिया निशान भी लगने लगा है। भाजपा के भीतरखाने में यह भी चर्चा है कि मौजूदा सांसद राय की कार्यशैली से कोडरमा और गिरिडीह के भाजपा कार्यकर्ताओं में जो नाराजगी थी, उसे दूर करने और संभाविता हार को देखते हुए भाजपा आलाकमान ने सांसद राय का टिकट काटा है। इधर टिकट कटने के बाद जब सांसद राय से उनकी प्रतिक्रिया लेने का प्रयास किया गया, तो उनसेसंपर्क नहीं हो पाया। जबकि उनके जातीय समर्थकों से भी संपर्क किया गया, तो उनके भी मोबाइल बंद ही मिले। कोडरमा सांसद राय के अग्रज सुरेन्द्र राय के नंबर भी बंद मिला।

इसे भी पढ़ें-डुमरी में ग्राम स्वच्छता समिति की हुई बैठक, महिलाओं को किया जागरूक

सांसद से नाराज चल रहे कार्यकर्ताओं में खुशी, अन्नपूर्णा के पक्ष में जनमत की उम्मीद

इधर कोडरमा से अन्नपूर्णा देवी को टिकट देने के घोषणा भर होने से नाराज कार्यकर्ताओं ने पार्टी के निर्णय का स्वागत किया है। कार्यकर्ता के साथ पार्टी भी यह भलीभांति जानती है कि अन्नपूर्णा देवी का कोडरमा में बेहद खास दबदबा है। एमवाई समीकरण पर ही अन्नपूर्णा देवी अब राजद के टिकट से कोडरमा विस में लालटेन जला चुकी है। हालांकि भाजपा में शामिल होने के बाद मुस्लिम वोटर भले ही कुछ तितर-बितर हो, लेकिन कोइरी-कुर्मी और वैश्य वोटरों का वोट अन्नपूर्णा के पक्ष में रहना तय माना जा रहा है। वैसे जातीय समीरण के आंकड़े में अन्नपूर्णा देवी के पक्ष में काफी हद तक यादव वोटरों की गोलबंदी की बात भी कही जा रही है। बहरहाल, अन्नपूर्णा को टिकट मिलने के बाद समीकरण का बदलना तो तय है। लेकिन भाजपा अब कोडरमा में अन्नपूर्णा के सहारे भगवा लहराने की तैयारी शुरू कर चुकी है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….