मंडप को छोड़कर थाना पहुंची नाबालिग छात्रा, बैरंग लौटी बारात

मंडप को छोड़कर थाना पहुंची नाबालिग छात्रा, बैरंग लौटी बारात
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 35
  •  
  •  
    35
    Shares

उच्च शिक्षा प्राप्त करने की चाह रखने वाली छात्रा ने सामाजिक कुरीतियों को कुचलते हुए दिखाई हिम्मत

कोडरमा। कोडरमा जिले के मरकच्चों प्रखंड के जामू गांव में उच्च शिक्षा प्राप्त करने की ललक रखने वाली छात्रा ने अपनी हिम्मत के बलबूते न सिर्फ बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ आवाज बूलंद की है, बल्कि घर आई बारात को वापस भेज दिया। बताया जाता है कि जामू गांव के रहने वाले सीताराम शर्मा की 17 वर्षीय बेटी कविता ने बीती रात हिम्मत का परिचय देते हुए शादी करने से इनकार कर दिया। अभी उसने मैट्रिक की परीक्षा दी है और आगे पढ़ाई करना चाहती है।

इसे भी पढ़ें-सिविल सर्जन डॉ रामरेखा प्रसाद की बुद्धि भ्रष्ट हो गई है : उपाधीक्षक

बारात पहुंचने के बाद मंडप छोड़ पहुंची थाना

बताया जाता है कि प्रखंड के जामू गांव निवासी सीताराम शर्मा ने अपनी बेटी कविता (17) का विवाह चैपनाडीह निवासी अरुण राणा के पुत्र राहुल कुमार से तय किया था। शादी के लिए बुधवार की रात धूमधाम से बारात उसके घर पहुंची। बाराती नाच-गा रहे थे, लेकिन कविता शादी का मंडप छोड़कर घर से भाग कर थाने पहुंच गई। थाने में मौजूद थाना प्रभारी शाहिद रजा से उसने शादी नहीं करने की बात कहकर बचा लेने का आग्रह किया। इस दौरान उसने आगे पढ़ने की इच्छा जाहिर करते हुए शादी नहीं करने की बात कही। इधर दरवाजे पर पहुंची बारात भी बिना दुल्हन के ही वापस लौट गई।

घर पहुंचकर बैंरग लौटी बारात

कविता के घर में नहीं होने की खबर मिलते ही माता-पिता सहित शादी में पंहुचे सभी रिस्तेदारों के होश उड़ गए। चारों तरफ अफरा-तफरी मच गई। जब लड़की के गायब होने की सूचना मिली तो शादी में नाच-गा रहे बाराती भी अचानक शांत हो गए। कुछ देर इंतजार करने के बाद दूल्हा सहित बाराती भी बैरंग लौट गए। इधर वधु पक्ष के लोग भी आनन-फानन में सुबह होते ही शादी के लिए लगाए गए टेंट व सजावट के समान को समेट कर वापस भेज दिया।

जबरदस्ती शादी करा रहे थे परिवार वाले

नाबालिग कविता ने बताया कि उसके घर वाले जबरदस्ती उसकी शादी करा रहे थे। थाने में कविता ने बताया कि वह अभी और भी पढ़ना चाहती है और पढ़ाई पूरी करने के बाद वह अपने पसंद के लड़के के साथ शादी करना चाहती है। उसने बताया कि माता -पिता ने उसकी मर्जी के खिलाफ उसकी शादी तय कर दी थी। उसने इस वर्ष मैट्रिक की परीक्षा दी है। उसने बताया कि वह घर में भी शादी का विरोध कर रही थी, लेकिन परिवार वाले उसकी बात नहीं सुन रहे थे।

पुलिस ने कविता सीडब्ल्यूसी को सौंपा

इधर मामले के बाद थाना प्रभारी ने सीडब्ल्यूसी से संपर्क कर उन्हें थाना बूलाया। सूचना मिलते ही सीडब्ल्यूसी टीम की सदस्य नूतन कुमारी व जितेंद्र कुमार थाने पहुंचकर नाबालिग को अपने साथ ले गये। इस संबंध में सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष रूपा सामंता ने बताया कि नाबालिग को फिलहाल चाइल्ड लाइन में रखा गया है। बताया कि छात्रा का बयान दर्ज करने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….