एसीबी ने जसपुर मुखिया समेत पंचायत सचिव को घूस लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार

एसीबी ने जसपुर मुखिया समेत पंचायत सचिव को घूस लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार
  •  
  • 145
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    145
    Shares

सचिव के आवास से मिले दस्तावेजों में है सभी योजना के कमीशन दर का उल्लेख

गिरिडीह। योजना में कमीशन लेने के आरोप में भष्ट्राचार निरोधक शाखा एसीबी की टीम ने महिला मुखिया समेत पंचायत सचिव को रंगे हाथ दबोचने में सफलता प्राप्त की है। एसीबी धनबाद की टीम के अधिकारी धनबाद की महिला दडांधिकारी द्वीपमाला और डीएसपी अशोक गिरि के नेत्तृव में गिरिडीह के सदर प्रखंड के जसपुर पंचायत पहुंची। टीम में एसीबी के एसआई कृष्णानंद सिंह समेत महिला कांस्टेबल भी शामिल थी। इस दौरान एसीबी के पदाधिकारियों ने जसपुर पंचायत की मुखिया बड़की देवी और पंचायत सचिव विजय प्रसाद को दुलार राम मुर्मु से 8200 सौ रूपये नकद लेते रंगे हाथ दबोच लिया। इसके बाद टीम के पदाधिकारी घूसखोर पंचायत सचिव विजय प्रसाद और मुखिया बड़की देवी को लेकर गिरिडीह के सदर प्रखंड कार्यालय स्थित पंचायत सचिव के आवास पहुंचे, जहां टीम ने पूरे आवास को खंगाला।

इसे भी पढ़ें-गिरिडीह : सक्रिय कार्यकर्ताओ संग डुमरी विधायक ने की बैठक

सचिव के आवास से मिले कई अहम दस्तावेज

एसीबी ने जसपुर मुखिया समेत पंचायत सचिव को घूस लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार

इस दौरान बड़े पैमाने पर ऐसे दस्तावेज जब्त किए जाने की बात कहीं जा रही है। जिसका संबध योजनाओं में कमीशन लेने से है। दस्तावेज जब्त करने की पुष्टि एसीबी के पदाधिकारियों ने भी किया है। एसीबी सूत्रों की मानें तो जो दस्तावेज जब्त किए गए है। उसमें किन योजनाओं में कितना कमीशन किन-किन लोगों के लिए तय है, इसका पूरा जिक्र मौजूद है। हालांकि पदाधिकारियों ने इस बात का खुलासा करने से इंकार किया है कि कौन-कौन सी योजनाओं में पंचायत प्रतिनिधियों और संबधित पदाधिकारियों के कमीशन का जिक्र है।

पीसीसी योजना के भुगतान में मांगा गया था 10 प्रतिशत कमिशन

बताया जाता है कि जसपुर के जांगो निवासी दुलार राम मुर्मू 14वें वित्त आयोग की राशि 2 लाख 99 हजार के लागत से बुढ़ा-बुढ़ी थान से मतलू मंराडी के घर तक पीसीसी योजना का कार्य लिया था। योजना पूर्ण होने के बाद लाभुक दुलार मुर्मू ने राशि भुगतान के लिए पंचायत सचिव विजय प्रसाद को भुगतान करने को कहा। लेकिन पंचायत सचिव प्रसाद ने लाभुक से कहा कि राशि भुगतान के लिए योजना का 10 फीसदी कमीशन 8200 सौ रुपये मुखिया और पंचायत सचिव को देना है।

सचिव ने पहले लाभुक दुलार मुर्मू को मुखिया बड़की देवी को सारा कमीशन देने को कहा। इसके बाद चेक भुगतान की बात कही। इस दौरान सचिव और मुखिया द्वारा घूस के रुप में कमीशन मांगने की शिकायत लाभुक ने धनबाद एसीबी के अधिकारियों से किया। वहीं निर्धारित समय में धनबाद भष्ट्राचार निरोधक शाखा की टीम जसपुर पहुंची और मुखिया व पंचायत सचिव को रंगेहाथ घूस लेते दबोच लिया।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….