चलंत लोक अदालत में ग्रामीणों को दी गई कानूनी अधिकार की जानकारी

चलंत लोक अदालत में ग्रामीणों को दी गई कानूनी अधिकार की जानकारी
  • 17
    Shares

निःसहाय व गरीब लोगों को निःशुल्क विधिक सेवा प्रदान करता है प्राधिकार

जमुआ(गिरिडीह)। जिला विधिक सेवाएं प्राधिकार गिरिडीह के बैनर तले गुरुवार को जमुआ प्रखण्ड के धर्मपुर पंचायत सचिवालय में चलंत लोक अदालत का आयोजन किया गया। अधिवक्ता त्रिलोकी पाण्डेय ने विधिक सेवाएं प्राधिकार के कार्य व उद्देश्यों पर विस्तृत प्रकाश डालते हुए कहा कि मौलिक हक और अधिकार की रक्षा के लिए विधिक की जानकारी होना आवश्यक है। कहा कि प्राधिकार द्वारा निःसहाय व गरीब लोगों को निःशुल्क विधिक सेवा प्रदान किया जाता है। लेकिन इसका लाभ लेने के लिए लोगों को जागरूक रहने की आवश्यकता है।

अधिवक्ता विकास कुमार ने संविधान में उल्लेखनीय विभिन्न प्रकार के अधिनियम व अनुच्छेदो के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि दूसरे के अधिकार का हनन, अन्याय करना व बर्दाश्त करना अपराध है। अधिवक्ता गितेश चंद्रा ने कहा कि भारतीय संविधान विश्व का सबसे बड़ा व सर्वश्रेष्ठ है। सभी नागरिकों को समान अवसर व अधिकार प्रदान किये गए है, जिनका संरक्षण जरूरी है।

इसे भी पढ़ें-गिरिडीह : आरके महिला कॉलेज में लैंग्वेज लैबोरेटरी की हुई शुरुआत

जनकल्याणकारी योजनाओं के बारे में दी जानकारी

मौके पर ग्रामीणों को बाल विवाह, बाल श्रम, डायन प्रथा, एससीएसटी अधिनियम के अलावे विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के बाबत जानकारी दी। मुखिया ओमप्रकाश साहू ने अध्यक्षता करते हुए कहा कि ऐसे कार्यक्रम से जनजागरूकता आती है जो निरन्तर होना चाहिए। शिविर का संचालन पीएलवी कामेश्वर कुमार ने किया। मौके पर पीएलवी नेमचंद प्रसाद वर्मा, महेंद्र प्रसाद वर्मा, कामेश्वर कुमार आदि ने भी विचार व्यक्त किये। उक्त अवसर पर वार्ड सदस्य, पंचायत सचिव, बुद्धिजीवी आदि मौजूद थे।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….