समाहरणालय सभागार में पीएम श्रम योगी मानधन योजना पर कार्यशाला
गिरिडीह झारखंड टॉप-न्यूज़

समाहरणालय सभागार में पीएम श्रम योगी मानधन योजना पर कार्यशाला

  • 9
    Shares

भाजपाईयों ने योजना को बताया असंगठित मजदुरों के लिए महत्वपूर्ण

गिरिडीह। समाहरणालय सभागार में मंगलवार को प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना को लेकर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। श्रम विभाग के तत्वावधान में आयोजित इस कार्यशाला में सांसद व विधायक प्रतिनिधि के अलावा कई अधिकारी मौजूद थे। श्रम अधीक्षक प्रत्युष कुमार ने योजना की जानकारी देते हुए कहा कि कोई भी 18 से 40 आयु वर्ग का असंगठित कर्मकार निर्धारित मासिक किस्त जमा कर साठ साल की आयु पूरी करने के बाद तीन हजार पेंशन का हकदार होगा। कहा कि योजना के तहत लाभुकों की मासिक आय पन्द्रह हजार से अधिक न हो। साथ ही ईएसआईसी, ईपीएफ का सदस्य के अलावा वह आयकर दाता न हो। कहा कि नियमित अंशदान करने एंव साठ साल की आयु पूरी करने के बाद हर माह लाभुक को तीन हजार पेंशन मिलेगी।

इसे भी पढ़ें-लोकसभा चुनाव को लेकर आयोग ने दिया कई निर्देश, लिया जायजा

असंगठित मजदुरों के लिए महत्वपूर्ण योजना: महापौर

बतौर मुख्य अतिथि नगर निगम के महापौर सुनील कुमार पासवान ने कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार की यह योजना असंगठित मजदुरों के लिए लाभदायक साबित होगी। पासवान ने विभागीय अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को आगाह किया कि पीएम की महत्वाकांक्षी योजना का लाभ जन-जन तक कैसे पहुंचे इसका प्रयास करना होगा। कहा कि जागरूकता फैलाने की जिम्मेवारी न सिर्फ जनप्रतिनिधियों की बल्कि अधिकारियों की भी है। योजना का निबंधन निःशुल्क है पर अधिकारी इस बात का खास ख्याल रखें कि कर्मी इसमें अवैध वसूली न करने लगे। इससे विभाग के साथ अधिकारी की भी बदनामी होगी। उन्होंने कहा कि जितनी राशि लाभुक द्वारा जमा की जाएगी उतनी राशि लाभुक के खाते में केन्द्र सरकार भी जमा करेगी।

पिछली योजनाओं की तरह इसकी न हो दुर्गति: राजेश

भाकपा माले नेता राजेश यादव ने विभाग को पूर्व की योजनाओं में हुई दुर्गति का आइना दिखाया। कहा कि योजना अच्छी है, पर विभाग यह बताए कि निर्माण कार्य से जुड़े कामगारों का पूर्व में निबंधन किया जाना था और उन्हें कई सुविधा मिलनी थी। श्रम विभाग यह बताए कि अब तक कितने लोगो का निबंधन हुआ और उन्हें क्या सुविधा दी गई। उन्होंने निर्धारित की गई राशि पर भी सवाल उठाया। कहा कि मंहगाई के युग में बीस साल बाद तीन हजार की क्या कीमत रह जाएगी। उन्होंने सुझाव दिया कि जिस दर से मंहगाई बढ़ रही है उस दर से राशि में बढ़ोतरी की जाये।

सत्तापक्ष ने योजना को सराहा

माले नेता के तीखे सवालों के बाद भाजपा के सांसद प्रतिनिधि यदुनंदन पाठक, बगोदर विधायक प्रतिनिधि नारायण पांडेय, बीस सूत्री सदस्य संजीत सिंह, हबलू गुप्ता, संजू देवी ने योजना की जमकर सराहना की। कहा कि अब तक केवल सरकारी नौकरी में ही भविष्य की सुरक्षा होती थी। लेकिन केन्द्र की मोदी सरकार ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वालों के लिए क्रांतिकारी कदम उठाया है। ऐसे लोगांे के लिए यह योजना तब सहारा बनेगा जब कहीं से कोई उम्मीद नहीं होता। योजना की डालसा सचिव मनोरंजन कुमार, चैंबर आफ कामर्स के सचिव प्रमोद कुमार, यूनियन नेता रघुनदंन विश्वकर्मा, शिवाजी सिंह ने भी सराहना की।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….