आरक्षण नीति के विरोध में भारत बंद का गिरिडीह में रहा आंशिक असर

आरक्षण नीति के विरोध में भारत बंद का गिरिडीह में रहा आंशिक असर
  •  
  • 9
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    9
    Shares

संविधान बचाओ संघर्ष समिति द्वारा आहूत भारत बंद को मिला कई समर्थकों का समर्थन

जिले के लगभग सभी मुख्य मार्गों को बंद समर्थकों ने किया अवरूद्ध, नहीं चली लम्बी दूरी की वाहने

जमुआ(गिरिडीह)। सरकार की आरक्षण नीति के विरोध में संविधान बचाओ संघर्ष समिति द्वारा आहूत भारत बंद का गिरिडीह में मिला जुला असर देखने को मिला। शहरी क्षेत्र में बंद का कोई असर नहीं दिखा। जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में बंद का आंशिक असर देखने को मिला।

बंद के मद्देनजर एक ओर जहां लम्बी दूरी की सवारी वाहने बंद रही। वहीं छोटी दूरी की वाहनों का आवागमण जारी रहा। हालांकि इन सबके बीच भारत बंद को माले का समर्थन मिलने के बाद माले प्रभावित क्षेत्रों में बंद का खासा असर रहा।

इसे भी पढ़ें-मधुबन : चुनावी फायदे के लिए की गई भूमि पूजन, धरातल पर नहीं हुई है कोई तैयारी

ताराटांड़, जमुआ व जीटी रोड को बंद समर्थकों ने किया अवरूद्ध

आरक्षण नीति के विरोध में भारत बंद का गिरिडीह में रहा आंशिक असर

मंगलवार की सुबह से ही बंद समर्थक सड़क पर उतर कर टुंडी रोड के तारातांड़ के पास बंद समर्थकों ने सड़क अवरूद्ध कर आवागमण को पूरी तरह से बाधित कर दिया। जिससे धदबाद व बंगाल के आसनसोल, दुर्गापुर जाने वाली वाहनों का परिचालन ठप हो गया। वहीं जिले के जमुआ में भी बंद का मिलाजुला असर देखा गया।

बंद समर्थक सुबह 6 बजे से ही जमुआ चौक पहुंचकर जाम कर दिया। चौक जाम होने से जमुआ-कोडरमा, जमुआ-गिरिडीह और जमुआ-देवघर जाने मुख्य मार्ग पर वाहनों का परिचालन कुछ देर के लिए ठप हो गया। बंद समर्थक करीब 9 बजे तक चौक पर डटे रहे। इस दौरान जमुआ के दुकान-बाजार और सरकारी कार्यालय आमदिनों की तरह खुला रहा।

सरकार की आरक्षण नीति बहुजन समाज के लिए घातक: पासवान

माले के जमुआ विधानसभा प्रभारी अशोक पासवान भी बंद समर्थकों के समर्थन में खड़े थे। जमुआ में बंद समर्थकों को सम्बोधित करते हुए माले नेता अशोक पासवान ने कहा कि सरकार की आरक्षण नीति बहुजन समाज के लिए विरोधी नीति है। आदिवासियों को जल, जंगल और जमीन से बेदखल करने की साजिश हो रही है। कार्पोरेट परस्त भाजपा सरकार गरीबों के साथ अन्याय कर रही है।

बंद के समर्थन में उतरे कई संगठन

भारत बंद के दौरान बहुजन मुक्ति पार्टी के मंसूर अंसारी, बहुजन क्रांति मोर्चा के प्रदीप रजक, राष्ट्रीय मुस्लिम मोर्चा के एसरार आलम, यादव सेना के शंकर यादव, इनोस के एनुल अंसारी, रंजीत यादव, बाबूलाल मंडल, राजेश दास, लखन हंसदा, जीतु शर्मा सहित विभिन्न मंच-मोर्चा के कार्यकर्ता सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया।

बंद समर्थकों का साफ कहना था कि भारतीय संविधान से किसी भी प्रकार के छेड़ छाड़ को बर्दास्त नहीं किया जायेगा। इधर बगोदर में इनौस के राष्ट्रीय सचिव संदीप जायसवाल के नेतृत्व में जीटी रोड को अवरूद्ध कर दिया गया। बंद समर्थकों द्वारा जीटी रोड को घंटों जाम किये जाने की खबर है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए जुड़े हमारे व्हाट्सएप ग्रुप एवं फेसबुक पेज से….