NEWSFLASH
• सीधी नज़र न्यूज़ में आप सभी का स्वागत है •
” राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की जयंती पर उनको समर्पित महेन्द्रनाथ गोस्वामी “सुधाकर” की कविता “
" राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की जयंती पर उनको समर्पित महेन्द्रनाथ गोस्वामी "सुधाकर" की कविता "

” विडम्बना “ “सुधाकर” (1) जिस दिन मतिभ्रष्ट समुदाय में एकवस्त्रा दूरग्नि का आवरण खींचकर हटाया गया था तब कोई बज्र नहीं गिरा न बिजली कड़की न आसमान ही रोया और न ही धरती की छाती फटी थी और तब नग्न अग्निशिखा अनावृता होकर प्रचण्डावेग से धधक उठी थी जिसकी आँच में नीति, अनुशासन, बुद्धि, विवेक, न्याय, वीरता, रिश्ते-नाते सब पिघलकर बह गए ! (2) तेरह वर्ष तक के खुले लम्बे, काले केश काली सर्पिणी सी अपने प्रतिशोध की लपलपाती जिह्वा से मनुपुत्र के लाल-लाल लहू चाटकर और भी काली,…

Read More

जीतिया (जीवित पुत्रिका व्रत) पर्व विशेष : सिर्फ पुत्र ही क्यों, पुत्रियों के लिए भी हो मंगलकामना
जीतिया (जीवित पुत्रिका व्रत) पर्व विशेष : सिर्फ पुत्र ही क्यों, पुत्रियों के लिए भी हो मंगलकामना

महेंद्रनाथ गोस्वामी “सुधाकर” संस्कृत के किसी कवि ने कहा है – “जायते हरेत दारा बृद्धमाने च हरेत धनं, मृयमान हरे प्राणम, पुत्र कुत्र सुखावह ?” अर्थात्- जन्म लेते ही पुत्र अपने पिता से उसकी पत्नी को छीन लेता है और वृद्ध हो जाने पर उसका अर्जित धन स्वयमेव उसके हाथ आ जाता है तथा दुर्योग से यदि पिता के जीवित रहते ही पुत्र की मृत्यु हो जाती है तो पिता प्राणहीन प्राय हो जाता है – अत: पुत्र कब सुख देनेवाला हुआ ? अर्थात् – कभी नहीं ! परन्तु आज…

Read More

हजारीबाग में छपने वाली साहित्यिक पत्रिका “प्रसंग” का हुआ प्रकाशन
हजारीबाग में छपने वाली साहित्यिक पत्रिका "प्रसंग" का हुआ प्रकाशन

डाॅ बलभद्र ने गिरिडीह काॅलेज और आरके महिला काॅलेज के प्राचार्या को पत्रिका किया भेंट गिरिडीह। हजारीबाग से छपने वाली साहित्यिक पत्रिका प्रसंग का साल में दो बार संपादन कर चुके सहायक संपादक सह गिरिडीह कॉलेज के प्रो डॉ बलभद्र ने गिरिडीह कॉलेज के प्राचार्य डॉ अजय मुरारी और महिला कॉलेज की प्राचार्या डॉ पुष्पा सिन्हा को अपनी पत्रिका भेंट की। सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल पर पत्रिका में समाहित है झारखंड के विभिन्न पहलू: डाॅ बलभद्र इस दौरान डॉ बलभद्र ने बताया…

Read More

कथा शिल्पी शरतचंद्र चट्टोपाध्याय की जयंती पर विशेष
कथा शिल्पी शरतचंद्र चट्टोपाध्याय की जयंती पर विशेष

शरतचन्द्र के सपनों का घर : सामताबेड़ का शरत कुटीर रीतेश सराक हुगली। पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के देओल्टी रेलवे स्टेशन से कुछ ही दूरी पर स्थित है सामताबेड़ ग्राम। जिसे अब लोग शरतचंद्र ग्राम के रूप में अधिक जानते हैं। इसी गांव में अवस्थित है शरतचंद्र के सपनों का घर। सुकून भरी जिन्दगी और लेखन के लिए शरतचंद्र को शहरी कोलाहल से दूर किसी शांत सुरम्य जगह की जरूरत थी। हुगली जिले के देओल्टी के सामताबेड़ गांव में उन्हें एक जगह पसंद आई। यह स्थान रूपनारायण नदी के…

Read More

विशेष : प्रकृति पर्व करमा के अवसर पर प्रभाकर का विशेष आलेख
विशेष : प्रकृति पर्व करमा के अवसर पर प्रभाकर का विशेष आलेख

प्रकृति पर्व करम और हमारा समाज बहुरंगी भाषा संस्कृति एवं लोक परम्पराओं से रचा-बसा हमारा प्रदेश झारखण्ड, जहाँ के लोगों ने सदियों से जल-जंगल-जमीन और प्रकृति के साथ अन्तरंग और अटूट रिश्ता बना रखा है. कठिन-कठोर मेहनत भरे जीवन के सुख-दुःख और ख़ुशी-गम के विविध मनोभाव कैसे जीवंत हो उठते हैं, इसे शाश्वत देखना हो तो यहाँ के पर्व-त्योहारों में शामिल होकर महसूस किया जा सकता है-देखा जा सकता है.   करम परब झारखण्ड के मनभावन त्योहारों में एक है जिसमे बहन का भाई प्रेम तथा मनुष्य के प्रकृति प्रेम…

Read More

जामताड़ा के शिक्षक जयंतनाथ माजि को मिला राष्ट्रपति पुरस्कार
जामताड़ा के शिक्षक जयंतनाथ माजि को मिला राष्ट्रपति पुरस्कार

शिक्षक दिवस पर राष्ट्रपति के हाथों मिला सम्मान गिरिडीह/जामताड़ा‌। शिक्षक दिवस पर गुरुवार को राष्ट्रपति महामहिम रामनाथ कोविंद जी जामताड़ा के शिक्षक जयंतनाथ माजि को उत्कृष्ट शिक्षक का राष्ट्रपति पुरस्कार प्रदान किया। दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में उन्हें मानपत्र, मैडल और पुरस्कार राशि देकर सम्मानित किया गया। श्री जयंत फिलहाल मिजोरम की राजधानी आइजोल के गवर्नमेंट हाई स्कूल में बतौर प्रधानाध्यापक कार्यरत हैं। उनकी उपलब्धि पर पूरे परिवार और समाज में हर्ष का माहौल है। सीधी नजर देखें सिटी केबल के 277 नम्बर और हमारे youtube चैनल…

Read More

उपन्यास प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट ऑफ़ लाइफ का समारोहपूर्वक विमोचन
उपन्यास प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट ऑफ़ लाइफ का समारोहपूर्वक विमोचन

पर्यावरण समस्या को देखते हुए आदिल सिद्दीकी ने लिखा उपन्यास गिरिडीह। उभरते हुए लेखक आदिल सिद्दीकी के पहले उपन्यास प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट ऑफ लाइफ का विमोचन शनिवार को नगर भवन में समारोहपूर्वक किया गया। समारोह में बतौर अतिथि गिरिडीह के महापौर सुनील पासवान, उप महापौर प्रकाश सेठ, मोंगिया स्टील के चेयरमैन डॉ गुणवंत सिंह, लेखक डॉ छोटू प्रसाद, पत्रकार राकेश सिन्हा, लक्ष्मी अग्रवाल, अरविंद कुमार और संजर इमाम ने संयुक्त रूप उपन्यास का विमोचन किया। इस दौरान सभी अतिथियों का लेखक आदिल सिद्दीकी ने पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया। समारोह…

Read More

मन्नत : ईश्वर पर अटूट विश्वास का नजरिया
मन्नत : ईश्वर पर अटूट विश्वास का नजरिया

“मन्नत” प्रभाकर “क्या होगा इससे?” मन्नत की मौली बँधवाते हुए वह झुँझला गया था। “यहाँ कहते हैं कि जो भी मांग कर ये धागा बाँध लो वो मन्नत जरूर पूरी होती है।” “और तुमको इसपर यकीन है?” “यकीन न करने की कोई वजह भी नज़र नहीं आती। ” “ये बचपना है” “मैं बूढ़ी हुई ही कहाँ हूँ अभी” “ओफ्फो, चलो” और दोनों आँखें मूँद कुछ बुदबुदा कर दो सिक्के भी प्रवाहित कर आये उस कल कल बहती नदी में… “आखिर क्या माँगा तुमने अपने सिक्को को प्रवाहित करते हुए?” उसने…

Read More

वर्तमान जल संकट : कृत्रिम या प्रकृति का कहर
वर्तमान जल संकट : कृत्रिम या प्रकृति का कहर

मित्र-सहपाठियों संग एकांत स्थान पर बैठकर जब 90 के दशक से पहले और आज पर चिंतन करते हैं, तब एहसास होता है, हमने अपने स्वार्थ के लिए ग्लोबल वार्मिंग को न्योता भेजा और आने वाली पीढ़ी को बिना वृक्ष, बिना अन्न-पानी के अकाल मृत्यु की ओर धकेल रहे हैं। हम अपने मौजूदा संसाधनों का दोहन कर भविष्य के खतरे को प्रबल करने का काम कर रहे हैं, आज भी भविष्य में आने वाले संकट और समय के कुचक्र को समझ नहीं पा रहे। और यदि समझ भी रहे हैं तो…

Read More

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा को मिली प्रचंड जीत पर लेखक के मन के उद्गार
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा को मिली प्रचंड जीत पर लेखक के मन के उद्गार

आज फिर अभिनंदन तुम्हारा लेखक- राकेश मोदी मोदी जी फिर से आज तुम्हारा अभिनंदन हीरा बा के लाल तुम्हारा अभिनंदन श्री दामोदर के संस्कार तुम्हारा अभिनंदन भारत के सरताज तुम्हारा अभिनंदन संसद की तुम शान तुम्हारा अभिनंदन जन जन के विश्वास तुम्हारा अभिनंदन भाजपा के अभिमान तुम्हारा अभिनंदन परिश्रम के पर्याय तुम्हारा अभिनंदन अमित शाह जी के यार तुम्हारा अभिनंदन हम सबके तुम प्यार तुम्हारा अभिनंदन आप यशस्वी हों, तेजस्वी हों, दीर्घायु हों। आपके नेतृत्व में जल्दी ही भारत फिर से विश्वगुरू बने, हर भारतीय के मन में वसुधैव कुटुम्बकम…

Read More

error: Content is protected !!