NEWSFLASH
• सीधी नज़र न्यूज़ में आप सभी का स्वागत है •
उपन्यास प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट ऑफ़ लाइफ का समारोहपूर्वक विमोचन
उपन्यास प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट ऑफ़ लाइफ का समारोहपूर्वक विमोचन

पर्यावरण समस्या को देखते हुए आदिल सिद्दीकी ने लिखा उपन्यास गिरिडीह। उभरते हुए लेखक आदिल सिद्दीकी के पहले उपन्यास प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट ऑफ लाइफ का विमोचन शनिवार को नगर भवन में समारोहपूर्वक किया गया। समारोह में बतौर अतिथि गिरिडीह के महापौर सुनील पासवान, उप महापौर प्रकाश सेठ, मोंगिया स्टील के चेयरमैन डॉ गुणवंत सिंह, लेखक डॉ छोटू प्रसाद, पत्रकार राकेश सिन्हा, लक्ष्मी अग्रवाल, अरविंद कुमार और संजर इमाम ने संयुक्त रूप उपन्यास का विमोचन किया। इस दौरान सभी अतिथियों का लेखक आदिल सिद्दीकी ने पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया। समारोह…

Read More

मन्नत : ईश्वर पर अटूट विश्वास का नजरिया
मन्नत : ईश्वर पर अटूट विश्वास का नजरिया

“मन्नत” प्रभाकर “क्या होगा इससे?” मन्नत की मौली बँधवाते हुए वह झुँझला गया था। “यहाँ कहते हैं कि जो भी मांग कर ये धागा बाँध लो वो मन्नत जरूर पूरी होती है।” “और तुमको इसपर यकीन है?” “यकीन न करने की कोई वजह भी नज़र नहीं आती। ” “ये बचपना है” “मैं बूढ़ी हुई ही कहाँ हूँ अभी” “ओफ्फो, चलो” और दोनों आँखें मूँद कुछ बुदबुदा कर दो सिक्के भी प्रवाहित कर आये उस कल कल बहती नदी में… “आखिर क्या माँगा तुमने अपने सिक्को को प्रवाहित करते हुए?” उसने…

Read More

वर्तमान जल संकट : कृत्रिम या प्रकृति का कहर
वर्तमान जल संकट : कृत्रिम या प्रकृति का कहर

मित्र-सहपाठियों संग एकांत स्थान पर बैठकर जब 90 के दशक से पहले और आज पर चिंतन करते हैं, तब एहसास होता है, हमने अपने स्वार्थ के लिए ग्लोबल वार्मिंग को न्योता भेजा और आने वाली पीढ़ी को बिना वृक्ष, बिना अन्न-पानी के अकाल मृत्यु की ओर धकेल रहे हैं। हम अपने मौजूदा संसाधनों का दोहन कर भविष्य के खतरे को प्रबल करने का काम कर रहे हैं, आज भी भविष्य में आने वाले संकट और समय के कुचक्र को समझ नहीं पा रहे। और यदि समझ भी रहे हैं तो…

Read More

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा को मिली प्रचंड जीत पर लेखक के मन के उद्गार
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा को मिली प्रचंड जीत पर लेखक के मन के उद्गार

आज फिर अभिनंदन तुम्हारा लेखक- राकेश मोदी मोदी जी फिर से आज तुम्हारा अभिनंदन हीरा बा के लाल तुम्हारा अभिनंदन श्री दामोदर के संस्कार तुम्हारा अभिनंदन भारत के सरताज तुम्हारा अभिनंदन संसद की तुम शान तुम्हारा अभिनंदन जन जन के विश्वास तुम्हारा अभिनंदन भाजपा के अभिमान तुम्हारा अभिनंदन परिश्रम के पर्याय तुम्हारा अभिनंदन अमित शाह जी के यार तुम्हारा अभिनंदन हम सबके तुम प्यार तुम्हारा अभिनंदन आप यशस्वी हों, तेजस्वी हों, दीर्घायु हों। आपके नेतृत्व में जल्दी ही भारत फिर से विश्वगुरू बने, हर भारतीय के मन में वसुधैव कुटुम्बकम…

Read More

सरहुल विशेष : ‘फूल गईल शरई फूल, सरहुल दिना आबे गुईयाँ…..’

“सरहुल” प्रभाकर गिरिडीह : प्रकृति का वसंत ऋतू की अंगडाई के साथ महुआ की खुशबु और पलास के मनमोहक रंगीन फूलों के साथ मदमस्त हो जाना…. और फिर हमें भी अपने इस उत्सव में सामिल होने का न्योता देती प्रकृति का खुद हमारे लिए शाल के पेड़ों पर शरई या सलई या शालिनी का गुलदस्ता भेजना… खुला आसमान, कोयल की मीठी कुक, चिड़ियों की चहचाहट, फूलों से ढकी बगैर पत्तों का पलास…. बस यही तो है सरहुल… मूलतः सरहुल दो मुंडारी शब्दों का समायोजन है, पहला ‘शरई’ और दूसरा ‘हल’…..

Read More

Posted in झारखंड, साहित्य Comments Off on सरहुल विशेष : ‘फूल गईल शरई फूल, सरहुल दिना आबे गुईयाँ…..’
धनबाद के रंगकर्मी बलवंत को बनारस में मिला राष्ट्रीय सेतु सम्मान, लोगों ने दी बधाई
धनबाद के रंगकर्मी बलवंत को बनारस में मिला राष्ट्रीय सेतु सम्मान, लोगों ने बधाई

नाट्य क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए मिला सम्मान गिरिडीह । 27 मार्च विश्व रंगमंच दिवस के मौके पर वाराणसी की प्रतिष्ठित सेतु सांस्कृतिक केंद्र की ओर से नाट्य क्षेत्र में योगदान देने के लिए धनबाद के रंगकर्मी व पत्रकार बलवंत कुमार को राष्ट्रीय सेतु सम्मान प्रदान किया गया। वाराणसी के नगरी नाटक मंडली थिएटर हॉल में आयोजित 16वें राट्रीय नाट्य आंदोलन के दौरान पद्मश्री राजेश्वर आचार्य ने उन्हें अंगवस्त्र, प्रशस्ति पत्र, और स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। कोयलांचल में रंगमंच को दी एक नई पहचान बलवंत कुमार को…

Read More

Posted in झारखंड, साहित्य Comments Off on धनबाद के रंगकर्मी बलवंत को बनारस में मिला राष्ट्रीय सेतु सम्मान, लोगों ने दी बधाई
भारतीय सेना ने दिनकर की कविता के जरिए बताई अपनी मंशा
भारतीय सेना ने दिनकर की कविता के जरिए बताई अपनी मंशा

भारतीय सेना ने पाकिस्तान के आतंकवादी ठिकाने में हमले के कुछ ही घंटे बाद ही सेना ने राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की कविता ‘शक्ति और क्षमा’ का एक अंश ट्वीट किया है। आइए पढ़ते हैं राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की पूरी कविता।। शक्ति और क्षमा/रामधारी सिंह दिनकर क्षमा, दया, तप, त्याग, मनोबल सबका लिया सहारा पर नर व्याघ्र सुयोधन तुमसे कहो, कहाँ, कब हारा?   क्षमाशील हो रिपु-समक्ष तुम हुये विनत जितना ही दुष्ट कौरवों ने तुमको कायर समझा उतना ही।   अत्याचार सहन करने का कुफल यही होता है…

Read More

कवि के मन में चल रहे अंतर्द्वंद से निकली वाणी

“मैं एक समन्दर हूँ” श्री रामकुमार सिन्हा मौन मेरे मन का   मैं प्रश्न बन जाऊ अगर उत्तर बनोगे तुम? मौन मेरे मन का मुझसे पूछता है।   मौन के कुछ पूछने का बहन तक मुझको नहीं था, किन्तु मैं यह जनता हूँ मौन जब कुछ बोलता है, शब्द से ही तौलता है मेरा भारी मन।   और मैं बस मूक होकर ताकता हूँ दूर तक यूँ।   मौन का वह प्रश्न तिरता शून्य में है।   चाहता हूँ मौन के हर प्रश्न का उत्तर बनूँ मैं, पर नहीं कुछ…

Read More

कविताओं के माध्यम से रामकुमार सिन्हा के मन के उद्गार
कविताओं के माध्यम से रामकुमार सिन्हा के मन के उद्गार

“तुम” श्री रामकुमार सिन्हा ऋषभ हूँ, गंधार हूँ, मध्यम हो तुम। राग का आलाप मैं, सरगम हो तुम।         गंगा-जमन की धार तुम,बंजर जमीं मैं।   तुम सुरीली तान केवल बाँसुरी मैं।        तुम हो शीतल चाँद, मैं दोपहर हूँ।         मैं घना कुहरा मगर शबनम हो तुम।        राग का आलाप मैं, सरगम हो तुम।        मैं धधकती लौ,दीये की आरती तुम।     राही मैं प्यासा हूँ, चंचल नदी तुम।         मैं हूँ झंझावात, हवा हो तुम बसंती।       प्रेम का प्रतिरूप मैं, रूपम हो तुम।     राग का आलाप मैं, सरगम हो तुम।…

Read More

गिरिडीह की साहित्यिक बिरादरी ने नामवर सिंह को किया नमन, दी श्रद्धांजलि
गिरिडीह की साहित्यिक बिरादरी ने नामवर सिंह को किया नमन, दी श्रद्धांजलि

वक्ताओं ने कहा – नामवर की परंपरा हमेशा रहेगी कायम गिरिडीह। गिरिडीह की साहित्यिक बिरादरी के लोगों ने दिवंगत साहित्यकार नामवर सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित की। स्थानीय पशुपालन विभाग के सभागार में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में गिरिडीह की विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं के सदस्यों ने भाग लिया। श्रद्धांजलि सभा का संचालन रितेश सराक ने और धन्यवाद ज्ञापन शंकर पांडेय ने किया। इसे भी पढ़ें-प्रशिक्षण के नाम पर खानापूर्ति करता है समाज कल्याण विभाग, ICDS कर्मियों का आरोप कृष्णा सोबती व अर्चना वर्मा को भी श्रद्धांजलि कार्यक्रम में सबसे पहले उपस्थित लोगों…

Read More

error: Content is protected !!