NEWSFLASH
• सीधी नज़र न्यूज़ में आप सभी का स्वागत है •
लोकआस्था का महापर्व छठ की तैयारी शुरु, बाजार में बढ़ी चहल पहल
लोकआस्था का महापर्व छठ की तैयारी शुरु, बाजार में बढ़ी चहल पहल

नहाय खाय के साथ रविवार से महापर्व शुरू गिरिडीह। लोक आस्था और निर्जला उपवास का चार दिवसीय महापर्व छठ पूजा रविवार को नहाय-खाय के साथ शुरू होगा। चार दिवसीय अनुष्ठान को लेकर जहां व्रती और उनके परिवार के सदस्यों ने तैयारी शुरु कर दी है। वहीं शहर के बाजार न सिर्फ सजने लगी है बल्कि बाजार में चहल पहल भी बढ़ गई है।  शहर के मुख्य बाजार के अलावे आस पास के क्षेत्रों में  फल फूल से लेकर अनुष्ठान में उपयोग होने वाली विभिन्न पूजन सामग्रियों की दुकान सजने लगी…

Read More

गिरिडीह में काली पूजा की धूम, दर्शन को उमड़ी भक्तों की भीड़
गिरिडीह में काली पूजा की धूम, दर्शन को उमड़ी भक्तों की भीड़

कालीबाड़ी, श्मशान काली सहित अन्य पूजा पंडालों में देर रात्रि होगी मां काली की पूजा गिरिडीह। कार्तिक अमावस्या के मौके पर मंगलवार को गिरिडीह में कालीपूजा की घूम रही। शहर से लेकर गांव तक भक्तों ने भव्य पंडाल बनाकर श्रद्वा भाव से मां काली की प्रतिमा स्थापित की। इस दौरान शहर के कालीबाड़ी, श्मशान काली मंदिर सहित विभिन्न काली मंदिरों में पूजा की भव्य तैयारी की गई है। वहीं शहर के मकतपुर स्थित बंगला स्कूल में रविन्द्रग्रंथागार द्वारा भव्य पंडाल बनाकर मां काली की प्रतिमा स्थापित की गई। जो भक्तों…

Read More

छठ पूजा की तैयारियाँ शुरू, राजधनवार छठघाट का एसडीएम ने लिया जायजा
छठ पूजा की तैयारियाँ शुरू, राजधनवार छठघाट का एसडीएम ने लिया जायजा

खोरीमहुआ(गिरिडीह)| झारखण्ड में बहुचर्चित राजधनवार की छठ पूजा को लेकर तैयारियाँ शुरू हो गई है। बुधवार को खोरीमहुआ अनुमण्डल पदाधिकारी धीरेन्द्र कुमार सिंह ने छठ घाट सहित पूरे बाजार में घूम-घूम कर सफाई के साथ-साथ सुरक्षा व्यवस्था लगाए जाने का जायजा लिया। इस दौरान अनुमण्डल पदाधिकारी ने उपस्थित दक्षणी धनवार मुखिया रॉबिन कुमार को छठ घाट का सफाई करवाने का निर्देश दिया गया। कहा कि दुर्गा पूजा के दौरान लगने वाले मेला के कारण गंदगी का अंबार लग गया है। जिसके सफाई का भी निर्देश दिया गया। ख़बरों से अपडेट…

Read More

खोरीमहुआ : डोरंडा के दो स्थानों पर हो रही पूजा, भक्तिमय हुआ माहौल
खोरीमहुआ : डोरंडा के दो स्थानों पर हो रही पूजा, भक्तिमय हुआ माहौल

100 वर्ष से अधिक है पूजा का इतिहास खोरीमहुआ (गिरिडीह)| सौ से अधिक वर्षों से डोरंडा में दुर्गा पूजा का इतिहास बताया जाता है। यहां के टिकैत गढ़ में हो रही पूजा की शुरुआत  राजतन्त्र काल से बताई जा रही है। वहीं यहां पर मेला के लिए जगह कम होने के कारण कुछ ही दूर स्थित गावां मोड स्थित बालकेस्वरनाथ धाम मैदान में दूसरी भव्य दुर्गा मण्डप का निर्माण कर पिछले चार वर्षों से व्यापक तौर पर पूजा की जा रही है। दोनों स्थानों पर आश्विन व चैती दोनों दुर्गा…

Read More

दुर्गा पूजा विशेष : मैं शिल्पकार, मेरा दर्द जाने न कोई
दुर्गा पूजा विशेष : मैं शिल्पकार, मेरा दर्द जाने न कोई

Report– आबिद/ नफ़ीस भव्य पूजा उत्सव में गुम होता मूर्तिकार का दर्द गिरिडीह । कलश स्थापना के साथ ही दुर्गा पूजा की शुरुआत हो चुकी है। दशहरा की तैयारियों की धूम चहुँ ओर देखने को मिल रही है। तमाम पूजा पंडालों का काम लगभग पूरा हो चला है। पूजा कमिटियों की ओर से एक से बढ़कर एक भव्य पंडालों का निर्माण कराया जा रहा है। लाखों के खर्च पर पूजा पंडालो में आकर्षक साज-सज्जा का पूरा इंतेजाम किया जा रहा है। मगर इन सब के बीच सबसे महत्वपूर्ण है माँ…

Read More

अद्भुत शिल्पकला से निर्मित है गांवां का काली मण्डा, 400 वर्षो से हो रही पूजा
अदभुद शिल्पकला से निर्मित है गांवां का काली मण्डा, 400 वर्षो से हो रही पूजा

मनोकामना होती है पूरी गांवां(गिरिडीह)| गांवां काली मंडा की भव्यता गिरिडीह जिले भर में प्रसिद्ध है. यह मंडा अदभुद शिल्पकला से निर्मित है जो इसे खूबसूरत बनाती है. इसका निर्माण 18वीं सदी के पूर्वाध में गावां के तत्कालीन टिकेट पुहकरन नारायण सिंह ने कराया था. लगभग 30 मीटर लंबाई एवं 30 फीट ऊंचे मंडप के दीवारों के प्लास्टर के निर्माण में सुर्खी चुना,  बेल का लट्ठा , गुड़, उड़द का पानी शंख एवं शिपियों के पानी के मिश्रण से हुआ था. जिसके कारण मंडप की दीवारें आज के दौर में…

Read More

दुर्गा पूजा का मेला देखने जाना पड़ता था डुमरी, तब जमींदार ने यहाँ शुरू की पूजा
दुर्गा पूजा का मेला देखने जाना पड़ता था डुमरी, तब जमींदार ने शुरू की पूजा

बगोदर(गिरिडीह)| जीटी रोड के किनारे बगोदर  स्थित श्री श्री दुर्गा शक्ति मंदिर में दुर्गा पूजा 1920ई से की जा रही है. जानकर बताते हैं कि बगोदर निवासी जमींदार सोहन राम के द्वारा विगत 98 वर्ष पूर्व दुर्गा पूजा की शुरुआत  यहाँ की गई थी. जो दिनोदिन भव्य होती जा रही है. इसे भी पढ़ें-बगोदर : श्रीलंका के जेल में बंद है बगोदर का युवक, वतन वापसी की गुहार यहां पिछले एक दशक से पूजा बड़े ही आकर्षक व भव्य रूप से की जा रही है. पूजा की शुरुआत को लेकर…

Read More

सरिया : मित्रों के साथ चाय पीते आया पूजा का विचार, तभी से यहां शुरू हो गई पूजा
सरिया : मित्रों के साथ चाय पीते आया पूजा का विचार, तभी से यहां शुरू हो गई पूजा

Report- कंठेकाल पांडेय भव्य मेले का होता है आयोजन सरिया(गिरिडीह)| सरिया प्रखंड के केशवारी गाँव में 1994 से मेले का आयोजन कर दुर्गा पूजा मनाया जा रहा है. इसके पूर्व वहां के लोग दुर्गा पूजा मनाने तथा मेले का आनंद लेने सरिया बाजार जाया करते थे. इस बाबत दुर्गा पूजा समिति केशवारी के अध्यक्ष सह संस्थापक सदस्य महेश कुमार मोदी ने बताया कि 1994 के अगस्त माह में गांव में स्थित राधा कृष्ण मंदिर के पुजारी सीताराम शास्त्री ग्रामीण द्वारिका प्रसाद यादव, जगदीश मोदी, शिवचरण राणा, रामविलास मोदी, महेश मोदी,…

Read More

खोरीमहुआ : यहां मुगलकाल से हो रही दुर्गा पूजा, सभी मनोकामनाएं होती हैं पूरी
खोरीमहुआ : यहां मुगलकाल से हो रही दुर्गा पूजा, सभी मनोकामनाएं होती है पूरी

खोरीमहुआ (गिरिडीह)| खोरीमहुआ अनुमंडल क्षेत्र के देवरी प्रखंड क्षेत्र के किसगो ग्राम में होने वाले दुर्गा पूजा का इतिहास मुगलकाल से जुड़ा हुआ है. बताया जाता है कि यहां स्थापना जयपुर-जोधपुर राजस्थान के सूर्यवंशी क्षत्रिय राजा के वंशज राजा रामरतन सिंह द्वारा संवत 1597 फसली सन 947 मुगलकाल के समय किसगो के पांडेयबागी में मिट्टी का पिंड बनाकर माँ दुर्गा का पूजा आरम्भ किया गया था. बताया जाता है कि राजा रामरतन सिंह के समय से ही खुशियों तथा मनोकामना पूर्ण होने के खुशी में काडा-भेड़ा का बलि प्रथा की…

Read More